रुला के गया इश्क – Rula Ke Gaya Ishq Lyrics – Stebin Ben

0
897
Rula-ke-gaya-ishq

Rula Ke Gaya Ishq Lyrics at LyricsCraze.com. Rula Ke Gaya Ishq is a Hindi song written by Singh Jeet. The Singer of the song is Stebin Ben. The music has been released by Zee Music Company.

Song Title:Rula Ke Gaya Ishq
Singer:Stebin Ben
Composer:Sunny Inder
Starring:Bhavin Bhanushali, Sameeksha Sud & Vishal Pandey,Niah Khan
Producer:Anurag Bedi
Lyrics:Kumaar
Music Label:Zee Music Company

Rula Ke Gaya Ishq Lyrics in English

Kaash Tu Mere Haq Mein Hota
Banke Yaqeen Shaq Mein Hota
Kaash Tu Mere Haq Mein Hota
Banke Yaqeen Shaq Mein Hota

Par Aisa Huya Nahi
Tu Hai Milon Door Kahin
Tere Sang Pal Do Pal Ko
Hasna Jo Chaaha Toh

Rula Ke Gaya Ishq Tera
Roola Ke Gaya Ishq Tera
Ke Maane Nahi Dil Ye Mera
Kaise Chup Main Karaun Ve

Roola Ke Gaya Ishq Tera
Rula Ke Gaya Ishq Tera
Ke Maane Nahi Dil Ye Mera
Kaise Chup Main Karaun Ve

Yaar Bichhda Mila De Ve Koi
Aankha Rondi Aa Zaar Zaar
Hasa De Koi

Rula Ke Gaya Ishq Tera
Roola Ke Gaya Ishq Tera
Ke Maane Nahi Dil Ye Mera
Kaise Chup Main Karaun Ve

Roola Ke Gaya Ishq Tera
Rula Ke Gaya Ishq Tera
Ke Maane Nahi Dil Ye Mera
Kaise Chup Main Karaun Ve

Khaabon Se Zaada Aashuon Se Dosti
Kar Baithe
Jeene Ki Khaahish Mein Lamha Lamha
Mar Baithe

Khaabon Se Zaada Aashuon Se Dosti
Kar Baithe
Jeene Ki Khaahish Mein Lamha Lamha
Mar Baithe

Tu Aise Juda Huya
Main Raat Tu Subah Huya
Tujhpe Main Marta Raha
Tujhe Yaad Main Karta Raha

Bhula Ke Gaya Ishq Tera
Roola Ke Gaya Ishq Tera
Bhula Ke Gaya Ishq Tera
Roola Ke Gaya Ishq Tera
Kaise Chup Main Karaun Ve

Rula Ke Gaya Ishq Lyrics in Hindi

काश तू मेरे हक़ में होता
बनके यक़ीं शक में होता
काश तू मेरे हक़ में होता
बनके यक़ीं शक में होता

पर ऐसा हुआ नहीं
तू है मीलों दूर कहीं
तेरे संग पल दो पल को
हँसना जो चाहा तो

रुला के गया इश्क़ तेरा
रुला के गया इश्क़ तेरा
के माने नहीं दिल ये मेरा
कैसे चुप मैं कराऊँ वे

रुला के गया इश्क़ तेरा
रुला के गया इश्क़ तेरा
के माने नहीं दिल ये मेरा
कैसे चुप मैं कराऊँ वे

यार बिछड़ा मिला दे कोई
आँखान रौंदियाँ जार जार
हँसा दे कोई

रुला के गया इश्क़ तेरा
रुला के गया इश्क़ तेरा
के माने नहीं दिल ये मेरा
कैसे चुप मैं कराऊँ वे

रुला के गया इश्क़ तेरा
रुला के गया इश्क़ तेरा
के माने नहीं दिल ये मेरा
कैसे चुप मैं कराऊँ वे

खाबों से ज़्यादा आँसुओं से दोस्ती कर बैठे
जीने की ख़्वाहिश में लम्हा-लम्हा मर बैठे

खाबों से ज़्यादा आँसुओं से दोस्ती कर बैठे
जीने की ख़्वाहिश में लम्हा-लम्हा मर बैठे

तू ऐसे जुदा हुआ
मैं रात तू सुबह हुआ
तुझपे मैं मरता रहा
तुझे याद मैं करता रहा

भुला के गया इश्क़ तेरा
रुला के गया इश्क़ तेरा
भुला के गया इश्क़ तेरा
रुला के गया इश्क़ तेरा
कैसे चुप मैं कराऊँ वे..

Leave a Reply