कुछ रंग प्यार के ऐसे भी | Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Lyrics – Sony TV

0
1681
Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Lyrics

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi is Marathi Tv Serial Song Written by Mamta Patnaik From the Tv Serial Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Which Telecasts On Sony TV. The singer of the song is Subhajit Mukherjee & Arpita Mukherjee.

Song Title:Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Lyrics
Singer:Subhajit Mukherjee & Arpita Mukherjee
Starring: Shaheer Sheikh,Erica Fernandes &
Supriya Pilgaonkar
Lyrics:Mamta Patnaik
Telecast:Sony TV

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Lyrics in English

Hoooo….
Hoooo….

Badle se din hai meri badli si raatein
Kai dino se meri mahki hai
Sansein, mahki hai sansein
Pehli dafa hai ki mujh me tu jhalka hai

Pehli dafa hai ki mujh me tu chhalka hai
Mere rango me kuchh dhang hai tere jaise bhi

Kuch rang pyaar ke aise bhi…
Kuch rang pyaar ke aise bhi…

Unchuye the sapne mere
Tune chuu huu liye
Chupke chupke dil me
Aaya toujaan do liye

Teri ho gayi mein tujhko pata bhi tohho
Mere pyar me teri raza bhi toh ho
Pehli dafa hai ki mujhme tu chalka hai
Mere rango me kuchh dhang hai tere jaise bhi

Kuch rang pyaar ke aise bhi…
Kuch rang pyaar ke aise bhi…

Meri duniya mein tha
Main apney hi dhyaan mein
Kuch toh badal gaya
Hai mere aasmaan mein

Aisa ye kaisey kyun kya ho gaya
Kuch khoobsoorat sa dil ko ho gaya
Pehli dafa hai ki mujhmey tu chalka hai
Mere rango mein kuch dhang hai tere jaise bhi

Kuch rang pyar ke aise bhi…
Kuch rang pyar ke aise bhi…

Sadgi acchi lagi hai mujhko teri
Sachhi lagi pyaar ki adayein ye teri
Kuch toh tera pyaar kuch

Hai teri sokhiyaan
Meri dil mein bass gayi
Teri sari khoobiyaan

Pehli dafa hai ki mujhmein tu chalka hai
Mere rangon mein kuch
Dhang hai terey jaise bhi

Mein tu chalka hai
Mere rangon mein kuch
Dhang hai terey jaise bhi

Kuch rang pyaar ke aise bhi…
Kuch rang pyaar ke aise bhi…

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Lyrics in Hindi

हो….
हो….

बदले से दिन है मेरी बदली सी रातेन
काही दिनो से मेह्की है
सनसे, मेह्की है सनसे
पेहली दाफा है की मुझ मुझे तू झलका है

पेहली दाफा है की मुझ में तू चालका है
मेरी रंगो में कुछ धांग है तेरे जैसे भी
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…

अनचुये थे सपने मेरे
तू ने चू लिये
आया तौजान दो लिये

तेरी हो गेई मी तुजको पाता भी तो हो
मेरे प्यार में तुझको रझा भी तो हो

पेहली दाफा है की मुझ में तू चालका है
मेरी रंगो में कुछ धांग है तेरे जैसे भी
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…

मेरी दुनिया में था
मैन अपने ही ध्यान में
कुच तोह बदल गया
है मेरे आसमान में

एसा ये कैसी क्युन कया हो गया
कुछ खुबसुरत सा दिल को हो गया
पेहली दाफा है की मुझ में तू चालका है
मेरी रंगो में कुछ धांग है तेरे जैसे भी

कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…

सद्गी आची लगी है मुजको तेरी
सचीलगी प्यार की अडयेन ये तेरी
कूच तो तेरा प्यार कूच
है तेरी सोखियान
मेरी देल मेन बास गेई
तेरी सारी खूबियान

पेहली दाफा है की मुझ में तू चालका है
मेरी रंगो में कुछ धांग है तेरे जैसे भी
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…
कुछ रंग प्यार के ऐसे भी…

More Song:

Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi Lyrics

Leave a Reply