ना वो मैं – Nah Woh Main Lyrics – Shreya Ghoshal

0
224
33453

Nah Woh Main Lyrics at LyricsCraze.com. Nah Woh Main Lyrics is a Hindi song written by Manoj Yadav. The Singer of the song is Shreya Ghoshal. The music has been released by T-Series.

Song Title:Nah Woh Main Lyrics
Singer:Shreya Ghoshal
Lyrics:Manoj Yadav
Composer:Shreya Ghoshal, Soumyadeep Ghoshal
Music Label:Shreya Ghoshal Official

Nah Woh Main Lyrics in English

Hum jo deewane the kabhi,
Ab woh deewane hum nahin,
Saanson se chhoota hai
dhadkan ka vaasta kahin,
Haan kahin

Lafzon ke dhaage khul gaye,
Ab woh kaahani hum nahin,
Haan, Sab beetee hai baatein
Koi dilaasa tak nahin,
Hai nahin

Aankhon tale baithe,
Do bheege bheege chehre hain,
Wahin thehre hain
Yaadon waale saare,
Kinaare bade gehre hain,
Hum jo taire hain

Na woh main, na woh tum,
Na woh pehli si hain baatein.
Na woh din, dopahar,
Na woh shabnami si raatein

Na woh pehli si hain baatein.
Na woh shabnami si raatein.

Haan
Pal jo hasaate the kabhi,
Ab woh rulate tak nahin,
Hmm Ab kya ho kab kya ho,
Koi thikana hi nahin,
Hai nahin

Haan
Sajde mein the humare jo,
Ab khuda se kam nahin,
Hum unse poochhe kya,
Koi bahaana bhi nahi,
Hai nahin

Bina wajah roothe,
Yun paagal bane baithe hain,
Aise kaise hain
Jaane kahan dekho,
Sitaaron jaise toote hain,
Kahaan chhoote hain

Na woh main, na woh tum,
Na woh pehli si hain baatein
Na woh din, dopahar,
Na woh shabnami si raatein

Na woh pehli si hain baatein
Na woh shabnami si raatein

Na woh main, na woh tum
Haan Na woh tum

Nah Woh Main Lyrics in Hindi

हम जो दीवाने थे कभी
अब वो दीवाने हम नहीं
साँसों से छूटा है
धड़कन का वास्ता कहीं
हाँ कहीं
लफ़्ज़ों के धागे खुल गए
अब वो कहानी हम नहीं
हां सब बीती है बातें
कोई दिलासा तक नहीं
है नहीं

आंखों तले बैठे
दो भीगे भीगे चेहरे हैं
वहीं ठहरे हैं
यादों वाले सारे
किनारे बड़े गहरे हैं
हम जो तैरे हैं

ना वो मैं ना वो तुम
ना वो पहली सी है बातें
ना वो दिन दोपहर
ना वो शबनमी सी रातें

ना वो पहली सी है बातें
ना वो शबनमी सी रातें

हां
पल जो हसाते थे कभी
अब वो रुलाते तक नहीं
हम्म.. अब क्या हो कब क्या हो
कोई ठिकाना ही नहीं
है नहीं

हाँ
सजदे में थे हमारे जो
अब वो खुदा से कम नहीं
हम उनसे पूछे क्या
कोई बहाना भी नहीं
है नहीं

बिना वजह रूठे
यूँ पागल बने बैठे हैं
ऐसे कैसे हैं
जाने कहाँ देखो
सितारों जैसे टूटे हैं
कहाँ छूटे हैं

ना वो मैं ना वो तुम
ना वो पहली सी है बातें
ना वो दिन दोपहर
ना वो शबनमी सी रातें

ना वो पहली सी है बातें
ना वो शबनमी सी रातें

ना वो मैं ना वो तुम
हाँ ना वो तुम

Leave a Reply