दर्द-ए-दिल – Dard-E-Dil lyrics – Karz 1980

dard-e-dil dard-e-jigar

Song Title: Dard-E-Dil Lyrics
Movie: Karz (1980)
Singer: Md. Rafi
Lyrics: Anand Bakshi
Music: Laxmikant-Pyarelal
Music Label: T-Series

English Lyrics

Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne
Pehle toh mai shayar tha
Pehle toh mai shayar tha
Aashik banaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne

Aapki madhosh najare
Kar rahi hain shayari
Aapki madhosh najare
Kar rahi hain shayari
Yeh ghajal meri nahi
Yeh ghajal hai aapki
Maine toh bas woh likha
Jo kuchh likhaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne.

Kab kaha sab kho gayi
Jitani bhi thi parchhaiya
Uth gayi yaro ki mehfil
Ho gayi tanhaiya
Kab kaha sab kho gayi
Jitani bhi thi parchhaiya
Uth gayi yaro ki mehfil
Ho gayi tanhaiya
Kya kiyaa shayad koyi
Parda giraya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne

Aur thodi der me bas
Ham juda ho jayenge
Aur thodi der me bas
Ham juda ho jayenge
Aapko dhundunga
Kaise raste kho jayenge
Nam tak bhi toh nahi
Apna bataya aapne


Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne
Pehle toh mai shayar
Tha aashik banaya aapne
Darde dil darde jigar
Dil me jagaya aapne

Hindi Lyrics

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
पहले तो मैं शायर था
पहले तो मैं शायर था
आशिक बनाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर

दिल में जगाया आपने
आपकी मदहोश नज़रें
कर रही हैं शायरी
आपकी मदहोश नज़रें
कर रही हैं शायरी
ये ग़ज़ल मेरी नहीं
ये ग़ज़ल है आपकी
मैंने तो बस वो लिखा
जो कुछ लिखाया आपने

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने

कब कहाँ सब खो गयी
जितनी भी थी परछाईयाँ
उठ गयी यारों की महफ़िल
हो गयी तन्हाईयाँ
कब कहाँ सब खो गयी
जितनी भी थी परछाईयाँ
उठ गयी यारों की महफ़िल
हो गयी तन्हाईयाँ
क्या किया शायद कोई
पर्दा गिराया आपने

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर

दिल में जगाया आपने
और थोड़ी देर में बस
हम जुदा हो जायेंगे
और थोड़ी देर में बस
हम जुदा हो जायेंगे
आपको ढूँढूँगा कैसे
रास्ते खो जायेंगे
नाम तक भी तो नहीं
अपना बताया आपने

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
पहले तो मैं शायर था
आशिक बनाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
ला ला