Zor Laga Ke Haisha Lyrics – Yaariyan 2014

0
310
zor-lagaake-haishaa

Movie: Yaariyan (2014)
Song: Zor Lagaake Haisha
Singer: Vishal Dadlani
Music: Arko Pravo Mukherjee
Lyrics: Irshad Kamil
Music on: T-Series

English Lyrics

Hum jawaan khoon ki garmi se
Narmi se ya besharmi se
Hum jawaan khoon ki garmi se
Narmi se ya besharmi se
Jo thaan liya kar jayenge
Ab jeet ke hi ghar jayenge
Jo thaan liya kar jayenge
Ab jeet ke hi ghar jayenge


Chal zor laga ke haishaa
Chal kadam badha ke haishaa
Chal zor lagaake haishaa
Chal kadam badha ke haishaa
Iraadon mein hai dum
Hawa ke hum kadam
Aazaadiyon ki kya hadein


Na hausalon ki hai sarhadein
Hum parvaton ko cheer dein
Hum aandhiyon ko na raah dein
Ho ishq ya jung zamaane se
Dono mein jeet zaroori hai
Duniya ke apne laalach hain


Dil ki apni majboori hai
Yeh baat bata ke jaayenge
Hum khwaab saja ke jayenge
Yeh baat bata ke jayenge
Hum khwaab saja ke jayenge…


Chal zor laga ke haishaa
Chal kadam badha ke haisha
Chal zor lagaake haisha
Chal kadam badha ke haishaa
Iraadon mein hai dum
Hawa ke hum kadam
Kya dooriyan, kya faasle


Be-khauf se yunhi chalte chale
Yeh jaanti hai manzilein
Toofan hai kayi pairon tale
Hum khushiyon ke hain saudagar
Sabke aansu pee jaate hain
Jab jug samjhe be-jaan humein


Hum hanste hain, jee jaate hain
Yeh aadat bohat puraani hai
Hum Hindi Hindustani hain
Yeh aadat bohat puraani hai
Hum Hindi Hindustani hain


Chal zor laga ke haisha
Jhanda fehra ke haisha
Chal zor lagaake haisha
Sab saath nacha ke haisha
Chal pyaar jataa ke haisha
Jana Gana Mana gaa ke haisha
Iraadon mein hai dum
Hawa ke hum kadam

Hindi Lyrics

हम जवान खून की गर्मी से
गर्मी से या बेशर्मी से
हम जवान खून की गर्मी से
गर्मी से या बेशर्मी से


जो ठान लिया कर जाएंगे
अब जीत के ही घर जाएंगे
जो ठान लिया कर जाएंगे
अब जीत के ही घर जाएंगे
चल ज़ोर लगा के हईशा
चल कदम बढ़ा के हईशा
चल ज़ोर लगाके हईशा
चल कदम बढ़ा के हईशा


इरादों में है दम
हवा के हमकदम
आज़ादियों की क्या हदें
ना हौसलों की है सरहदें
हम पर्वतों को चीर दें
हम आंधियों ना राह दें


इश्क़ या जंग ज़माने से
दोनों में जीत ज़रूरी है
दुनिया के अपने लालच हैं
दिल की अपनी मजबूरी है
यह बात बता के जाएंगे
हम ख्वाब सज़ा के जाएंगे
यह बात बता के जाएंगे
हम ख्वाब सज़ा के जाएंगे


चल ज़ोर लगा के हईशा
चल कदम बढ़ा के हईशा
चल ज़ोर लगाके हईशा
चल कदम बढ़ा के हईशा
इरादों में है दम
हवा के हमकदम


क्या दूरियां, क्या फ़ासले
बेख़ौफ़ से यूं ही चलते चले
यह जानती हैं मंज़िलें
तूफान है कहीं पैरों तले
दे रे ना… दे रे ना.. दे रे ना…


हम खुशियों के हैं सौदागर
सबके आंसू पी जाते हैं
जब जग समझे बेजान हमें
हम हंसते हैं, जी जाते हैं
यह आदत बहुत पुरानी है
हम हिन्दी हिंदुस्तानी हैं


यह आदत बहुत पुरानी है
हम हिन्दी हिंदुस्तानी हैं
चल ज़ोर लगा के हईशा..
झंडा फहरा के हईशा
चल ज़ोर लगाके हईशा


सब साथ में जा के हईशा
चल प्यार जाता के हईशा
जन गण मन गा के हईशा
इरादों में है दम
हवा के हमकदम

Leave a Reply