Mere Khuda Lyrics | Youngistaan 2014

0
206
mere-khuda

Song title: Mere Khuda Lyrics
Movie: Youngistaan (2014)
Singer: Shiraz Uppal
Lyrics: Shakeel Sohail
Music: Shiraz Uppal

English Lyrics

Jism is tarah, dard se bhara
Rooh ki koi bachi nahin jagah
Pyaar dhaal tha, magar nidhaal sa
Mujhe hi loot’ti, rahi meri panaah


Dheere dheere jal rahaa
Jal ke pighal rahaa
Behta chala hai dil mera..
Main hoon kya?
Mere Khuda…


Kaatun main kyun ye sazaa
Piya… kaahe pehle milaaye
Jab aakhir hi judaai hai
Dil se kyun khele bataa..


Dekh pyaasi hai jaan
Hai udaasi yahaan
Khaali khaali jahaan
Bemaza har samaa
Lab sookhe-sookhe


Naina bheege-bheege
Rootha-rootha sa mann
Jis tann laage aisi beqaraari
Jaane bas wohi tann
Uljha hoon kab se main, suljha..
Main hoon kya?
Mere Khuda…


Kaatun main kyun ye saza..
Piya… kaahe pehle milaaye
Jab aakhir hi judaai hai
Dil se kyun khele bataa..


Haar maane nahin, bewajah sa yaqeen
Yaar to hai kahin, benaseebi yahin
Kaise main bhulaaun ya main bhool jaaun
Beeta hua mera kal
Kahaan chala jaaun, jaake dhoond laaun


Pyaare apne woh pal
Tune kabhi kya ye socha
Main hoon kya?
Mere Khuda…
Kaatun main kyun yeh saza…


Piya… kaahe pehle milaaye
Jab aakhir hi judaai hai
Dil se kyun khele bataa..

Hindi Lyrics

ज़िस्म इस तरह दर्द से भरा
रूह कि कोई बची नहीं जगह
प्यार ढाल था मगर निढ़ाल सा
मुझे ही लूटी, रही मेरी पनाह


धीरे धीरे जल रहा
जल के पिघल रहा
बहता चला है दिल मेरा
मैं हूँ क्या ? मेरे ख़ुदा…

काटूं मैं क्यूँ ये सज़ा
पिया काहे पहले मिलाए
जब आख़िर ही जुदाई है
दिल से क्यूँ खेले बता
देख प्यासी है जान


है उदासी यहाँ
खाली खाली जहां
बेमज़ा हर समा
लब सूखे-सूखे
नैना भीगे-भीगे


रूठा-रूठा सा मन
जिस तन लागे ऐसी बेक़रारी
जाने बस वोही तन
उलझा हूँ कब से मैं, सुलझा
मैं हूँ क्या ? मेरे ख़ुदा
काटूं मैं क्यूँ ये सज़ा


पिया काहे पहले मिलाए
जब आख़िर ही जुदाई है
दिल से क्यूँ खेले बता
हार माने नहीं, बेवज़ह सा यक़ीन
यार तो है कहीं, बेनसीबी यहीं
कैसे मैं भुलाऊं या मैं भूल जाऊं


बीता हुआ मेरा कल
कहाँ चला जाऊं, जाके ढूंढ लाऊं
प्यारे अपने वो पल
तूने कभी क्या ये सोचा


मैं हूँ क्या ? मेरे ख़ुदा
काटूं मैं क्यूँ ये सज़ा
पिया काहे पहले मिलाए
जब आख़िर ही जुदाई है
दिल से क्यूँ खेले बता

Leave a Reply