Rang Se Hui Rangili Re Chidiya Lyrics – Gulaab Gang 2014

0
289
Rang-Se-Hui-Rangeeli-Re-Chidiya

Movie: Gulaab Gang (2014)
Song Title: Rang Se Hui Rangili Re Chidiya
Singer: Kaushiki Chakroborty
Music: Soumik Sen
Lyrics: Neha Saraf

English Lyrics

rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili
kalgi hari hai, choch gulaabi puch hai uski pili, haye
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili

range range se log hai saare ,range hue hai saare chaubare
range range se log hai saare, range hue hai saare chaubare
rang ke baadal gadhe gadhe hai, range hue hai sab galiyare


thor thikana, bhul gayi me ho gayi aankh nashili
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili

rang na tha zalimi aise rang ka jo lage idhar jaisa
phas gayi chidiya jaal me jaake dhoka hua ye kaisa
nikli thi me rang lagane gayi thi khelan holi, haye
jaal se bach ke bhaagi to dekha range huo ki toli


ik ne dabocha, duje ne pakda
ik ne dabocha, duje ne pakda aur chala di goli
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili


kalgi hari hai, choch gulaabi puch hai uski pili, haye
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili
rang se hui rangili re chidiya, rang se hui rangili

Hindi Lyrics

रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली
कलगी हरी है, चोच गुलाबी पूछ है उसकी पिली, हाए
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली

रंगे रंगे से लोग है सारे, रंगे हुए है सारे चौबारे
रंगे रंगे से लोग है सारे, रंगे हुए है सारे चौबारे
रंग के बादल गाढे गाढे है, रंगे हुए है सब गलियारे
ठोर ठिकाना भूल गयी मे हो गयी आँख नशीली


रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली

रंग ना था जालिम ऐसे रंग का जो लगे इधर जैसा
फस गयी चिड़िया जाल मे जाके धोका हुआ ये कैसा
निकली थी मे रंग लगाने गयी थी खेलन होली, हाए
जाल से बच के भागी तो देखा रंगे हुओ की टोली


इक ने दबोचा, दूजे ने पकड़ा
इक ने दबोचा, दूजे ने पकड़ा और चला दी गोली
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली


कलगी हरी है, चोच गुलाबी पूछ है उसकी पिली, हाए
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली
रंग से हुई रंगीली रे चिड़िया, रंग से हुई रंगीली

Leave a Reply