Bepanhaa Tum Ko Chahe Lyrics | BABUJI EK TICKET BAMBAI

0
253

Song Title: Bepanhaa Tum Ko Chahe
Movie: Babuji Ek Ticket Bambay (2016)
Singers: Mohit Chauhan, Palak Muchhal
Lyrics & Music: Altaaf Sayyed
Music Label: T-Series

English Lyrics

Tumpe karne laga yaqeen
Dil jo dil tha mera kabhi
Ek zara tum jo sang chale


Ho gaya mujhse ajnabi
Bepanah tum ko chahe
Khwabon mein tum ko laaye
Dil na ye baaz aaye


Mera meherbaan (Repeat once)
Bekhabar bekhabar huve
Hum toh saare jahaan se


Aankhon mein tumko moond ke
Baithe hai itminaan se
Saanwali dhoop mein chale
Hum tumhare saaye tale


Palkon ki surme-daani me
Ab toh armaan yahin pale
Bepanah tumko chahe


Khwaabon mein tum ko laaye
Dil na ye baaz aaye
Mera meherbaan


Nayi nayi dhun mein
Dabe dabe sur mein
Khamoshi karti hai shor yeh


Bole na kuch bole
Kisi ko haule haule
Chahe re mann mera chori
Chain kyun beqarari ko


Bin tumhare bhala mile
Paas aao pighalne do
Katra katra yeh faasla


Nayi nayi dhun mein
Dabe dabe sur mein
Khamoshi karti hai shor yeh


Bole na kuch bole
Kisi ko haule haule
Chahe re mann mera chori


Laayi rang zindagi naye
Aaj andekhe anchhuey
Odh ke rang tumhara yeh


Bas tumhare lo hum huey
Bepanhaa tum ko chahe


Khwaabon mein tu ko laaye
Dil na yeh baaz
Mera meherbaan (Repeat once)

Hindi Lyrics 

तुमपे करने लगा यकीं
दिल जो दिल था मेरा कभी


एक ज़रा तुम जो संग चले
हो गया मुझसे अजनबी
[बेपनाह तुम को चाहें


ख़्वाबों में तुम को लायें
दिल ना ये बाज़ आये मेरा मेहरबान ] x २


बेख़बर बेख़बर हुवे
हम तो सारे जहां से
आँखों में तुमको मूँद के


बैठे हैं इत्मीनान से
सांवली धुप में चले


हम तुम्हारे साए तले
पलकों की सुरमेदानी में
अब तो अरमान यहीं पले


बेपनाह तुम को चाहे
ख़्वाबों में तुम को लायें
दिल ना ये बाज़ आये मेरा मेहरबान


नयी नयी धुन में
दबे दबे सुर में
ख़ामोशी करती है शोर ये


बोले ना कुछ बोले
किसी को हौले हौले


चाहे रे मन मेरा चोरी
चैन क्यूँ बेक़रारी को


बिन तुम्हारे भला मिले
पास आओ पिघलने दो
कतरा कतरा ये फ़ासला


नयी नयी धुन में
दबे दबे सुर में
ख़ामोशी करती है शोर ये


बोले ना कुछ बोले
किसी को हौले हौले


चाहे रे मन मेरा चोरी
लायी रंग ज़िन्दगी नए


आज अनदेखे अनछुए
ओढ़ के रंग तुम्हारे ये
बस तुम्हारे लो हम हुए


[बेपनाह तुम को चाहे
ख़्वाबों में तुम को लायें
दिल ना ये बाज़ आये मेरा मेहरबान ] x २

Leave a Reply