ओ मेरी लैला – O Meri Laila Lyrics In English & Hindi – Atif Aslam, Jyotica Tangri 2018

0
469

Song Title: O Meri Laila Lyrics
Singers: Atif Aslam, Jyotica Tangri
Music: Joi Barua
Lyrics: Irshad Kamil
Music Label: Zee Music Company

O Meri Laila is a Bollywood Hindi song written by Irshad Kamil . The Singer of the Atif Aslam, Jyotica Tangri. The music has been composed by Joi Barua. The music has been realeased by Zee Music Company.

English Lyrics

Patta anaaron ka
patta chanaron ka
jaise hawaon mein

aise bhatakta hun
din raat dikhta hun

main teri raahon mein
mere gunaahon mein
mere sawaabon mein shaamil tu..

bhooli atthanni si
bachpan ke kurte mein se mill tu..
rakhun chhupa ke main sab se woh laila

maangun zamane se, rabb se woh laila
kab se main tera hun
kab se tu meri laila

teri talab thi haan teri talab hai
tu hi toh sab thi haan tu hi toh sab hai
kab se main tera hun
kab se tu meri laila..

o meri laila, laila
khwab tu hai pehla
kab se main tera hun

kab se tu meri laila
o meri laila, laila
khwab tu hai pehla
kab se main tera hun

kab se tu meri laila
maangi thi duaayein jo
unka hi asar hai hum saath hain
na yahaan dikhawa hai

na yahan dunyaavi jazbaat hain
yahaan pe bhi tu
hooron se zyada haseen

yaani dono jahaanon mein tumsa nahi
jeet li hain aakhir mein
hum dono ne yeh baaziyan..
rakhun chhupa ke main sab se woh laila

maangun zamaane se, rabb se woh laila
kab se main tera hun
kab se tu meri laila
teri talab thi haan teri talab hai
tu hi toh sab thi haan tu hi toh sab hai

kab se main tera hun
kab se tu meri laila..
o meri laila, laila
khwab tu hai pehla
kab se main tera hun

kab se tu meri laila
o meri laila, laila
khwab tu hai pehla

kab se main tera hun
kab se tu meri laila
zaaiqa jawaani mein
khwaabon mein yaar ki mehmaani mein

marziyaan tumhari ho
khush rahun main teri manmaani mein
band aankhein karun
din ko raatein karun

teri zulfon ko sehla ke baatein karun
ishq mein unn baaton se ho
meethi si naraaziyan

rakhun chhupa ke main sab se woh laila
maangun zamaane se, rab se woh laila
kab se main tera hoon
kab se tu meri laila

teri talab thi haan teri talab hai
tu hi toh sab thi haan tu hi toh sab hai

kab se main tera hoon
kab se tu meri laila..
o meri laila, laila

khwab tu hai pehla
kab se main tera hun
kab se tu meri laila

o meri laila, laila
khwab tu hai pehla

kab se main tera hun
kab se tu meri laila

Hindi Lyrics

पत्ता अनारों का
पत्ता चनारों का
जैसे हवाओं में

ऐसे भटकता हूँ
दिन रात दिखता हूँ
मैं तेरी राहों में
मेरे गुनाहों में
मेरे सवाबों में शामिल तू

भूली अठन्नी सी
बचपन के कुरते में से मिल तू

रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला
तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है

कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..
ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला …..2
मांगी थी दुआएं जो

उनका ही असर है हम साथ हैं
ना यहाँ दिखावा है

ना यहाँ दुनयावी जज़्बात हैं
यहाँ पे भी तू
हूरों से ज्यादा हसीं
यानी दोनों जहानों में तुमसा नहीं

जीत लि हैं आखिर में
हम दोनों ने ये बाजियां..
रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला

तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..
ओ मेरी लैला, लैला
ख्वाब तू है पहला

कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला …..2
जाइका जवानी में
ख़्वाबों में यार की मेहमानी में
मर्जियां तुम्हारी हो
खुश रहूँ मैं तेरी मनमानी में

बंद आँखें करूँ
दिन को रातें करूँ
तेरी जुल्फों को सहला के बातें करूँ
इश्क में उन बातों से हो

मीठी सी नाराज़ियाँ
रखूं छुपा के मैं सब से वो लैला
मांगूं ज़माने से, रब से वो लैला
कब से मैं तेरा हूँ

कब से तू मेरी लैला
तेरी तलब थी हाँ तेरी तलब है
तू ही तो सब थी हाँ तू ही तो सब है

कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला..
ओ मेरी लैला, लैला

ख्वाब तू है पहला
कब से मैं तेरा हूँ
कब से तू मेरी लैला ……2

Leave a Reply