Lyrics – Hindi Medium | Atif Aslam 2017

0
365

Song Title: Hoor Lyrics
Movie: Hindi Medium
Singer: Atif Aslam
Lyrics: Priya Saraiya
Music: Sachin- Jigar
Music Label: T-Series

English Medium

hoon hoon..

lafzon ke hasin dhagon mein kahin
piro raha hoon main kab se huzur
koshisein jara hai nigahon ko


tujhe dekhne ki khata zarur
deewangi kahun ise
ya hai mera fitoor

koi hoor..
jaise tu
koi hoor..
jaise tu

bhinge mausan ki
bhinge subah ka
hai noor

kaise door door
tujhse main rahun

khawabon mein jo tu dekhe mere
tujhse hi hota ishq hai

ulfat kaho ise meri
naa kaho hai mera kasoor

koi hoor..
jaise tu
koi hoor..
jaise tu

bhinge mausan ki
bhinge subah ka
hai noor

Hindi Medium 

हूँ हूँ..
लफ़्ज़ों के हसीन धागों में कहीं
पिरो रहा हूँ मैं कब से हुजुर
कोशिशें जरा है निगाहों की
तुझे देखने की खता जरुर


दीवानगी कहूँ इसे
या है मेरा फ़ितूर
कोई हूर..
जैसे तू
कोई हूर..


जैसे तू
भींगे मौसम की
भींगी सुबह का
है नूर


कैसे दूर दूर
तुझसे मैं रहूँ
खामोशियाँ जो सुनले मेरी
इनमे तेरा ही ज़िक्र है


खाव्बों में जो तू देखे मेरे
तुझसे ही होता इश्क है
उल्फत कहो इसे मेरी
ना कहो है मेरा कुसूर


कोई हूर..
जैसे तू
कोई हूर..
जैसे तू


भींगे मौसम की
भींगी सुबह का
है नूर

Leave a Reply