Kaabil Hoon Lyrics – Hrithik Roshan, Yami Gautam

0
1034

Song Title: Kaabil Hoon
Movie: Kaabil (2016)
Singers: Jubin Nautiyal, Palak Muchal
Lyrics: Nasir Faraaz
Music: Rajesh Roshan
Music Label: T-Series

English Lyrics

 

Tere mere sapne sabhi
Tere mere sapne sabhi
Band aankhon ke taale mein hain

Chaabi kahaan dhoondhe bata
Woh chaand ke pyaale mein hain
Phir bhi sapne kar dikhaun
Sach toh kehna bas yehi

Main tere kaabil hoon ya
Tere kaabil nahi
Main tere kaabil hoon ya
Tere kaabil nahi

Tere mere sapne sabhi
Tere mere sapne sabhi
Band aankhon ke taale mein hain
Chaabi kahaan dhoonde bata


Woh chaand ke pyaale mein hain
Phir bhi sapne kar dikhaun
Sach toh kehna bas yehi

Main tere kaabil hoon ya
Tere kabil nahi
Main tere kaabil hoon ya
Tere kabil nahi

Yeh shararatein yeh mastiyaan
Apna yahi andaaz hai
Samjhaaye kya kaise kahein
Jeene ka isme raaz hai

Dhadkan kahan ye dhadakti hai
Dil mein teri awaaz hai
Apni sab khushiyon ka ab toh
Ye aagaaz hai

Tere mere sapne sabhi
Tere mere sapne sabhi
Band aankhon ke taale mein hain
Chaabi kahan dhoondhe bata


Woh chand ke pyaale mein hain
Phir bhi sapne kar dikhaun
Sach toh kehna bas yehi

Main tere kaabil hoon yaa
Tere kaabil nahi
Main tere kaabil hoon yaa
Tere kaabil nahi

Saagar ki ret pe dil ko jab
Yeh banayengi teri ungliyan
Mere naam ko hi pukaar ke
Khankengi teri chudiyan

Tujhme adaa aisi hai aaj
Udati ho jaise titliyan

Pheeki ab na hogi kabhi
Yeh rangeeniyaan

Tere mere sapne sabhi
Band aankhon ke taale mein hain
Chaabi kahan dhoondhe bata


Woh chand ke pyaale mein hain
Phir bhi sapne kar dikhaun
Sach toh kehna bas yehi

Main tere kaabil hoon ya
Tere kaabil nahi
Main tere kabil hoon ya
Tere kaabil nahi

La la la

Hindi Lyrics 

तेरी मेरे सपने सभी
तेरी मेरे सपने सभी
बंद आँखों के ताले में हैं
चाबी कहाँ ढूंढें बता
वो चाँद के प्याले में हैं


फिर भी सपने कर दिखाऊ सच तो
केहना बस ये ही
[मैं तेरे काबिल हूँ या
तेरे काबिल नहीं] x 2


तेरी मेरे सपने सभी
तेरी मेरे सपने सभी


बंद आँखों के ताले में हैं
चाबी कहाँ ढूंढें बता
वो चाँद के प्याले में हैं
फिर भी सपने कर दिखाऊ सच तो
केहना बस ये ही


[मैं तेरे काबिल हूँ या
तेरे काबिल नहीं] x 2
ये शरारतें ये मस्तियाँ
अपना यही अंदाज़ है


हो.. समझाएं क्या कैसे कहें
जीने का हाँ इसमें राज़ है
धड़कन कहाँ ये धड़कती है
दिल में तेरी आवाज़ है
अपनी सब खुशियों का अब तो
ये आगाज़ है


तेरी मेरे सपने सभी
तेरी मेरे सपने सभी
बंद आँखों के ताले में हैं
चाबी कहाँ ढूंढें बता
वो चाँद के प्याले में हैं


तेरी मेरे सपने सभी
तेरी मेरे सपने सभी
बंद आँखों के ताले में हैं
चाबी कहाँ ढूंढें बता
वो चाँद के प्याले में हैं


फिर भी सपने कर दिखाऊ सच तो
केहना बस ये ही
[मैं तेरे काबिल हूँ या
तेरे काबिल नहीं] x 2


सागर की रेत पे दिल को जब
ये बनायेंगी मेरी उँगलियाँ
तेरे नाम को ही पुकार के
खन्नकेंगी मेरी चूड़ियाँ


तुझमे अदा ऐसी है आज
उडी हों जैसे तितलियाँ
फीकी अब ना होंगी कभी
ये रंगीनियाँ
तेरी मेरे सपने सभी


बंद आँखों के ताले में हैं
चाबी कहाँ ढूंढें बता
वो चाँद के प्याले में हैं
फिर भी सपने कर दिखाऊ सच तो


केहना बस ये ही
[मैं तेरे काबिल हूँ या
तेरे काबिल नहीं..] x 2
ला ला ला.. हु हु…

Leave a Reply