Bin Tere Lyrics | Shafqat Amanat Ali, Sunidhi Chauhan 2010

0
229

Song title: Bin Tere
Movie: I Hate Love Stories (2010)
Singer(s): Shafqat Amanat Ali, Sunidhi Chauhan
Lyrics: Vishal Dadlani
Music: Vishal-Shekhar
Music Label: Sony Music Entertainment Pvt. Ltd

English Lyrics 

Lusty lonely cause you’re the only
One that knows me and I can’t be without you
Lusty lonely cause you’re the only
One that knows me and I can’t be without you

Hai kya yeh jo tere mere darmiyaan hai
Andekhi ansuni koi dastaan hai
Hai kya yeh jo tere mere darmiyaan hai
Andekhi ansuni koi dastaan hai

Lagne lagi, ab zindagi khaali
Hai meri lagne lagi har saans bhi khaali (lusty lonely)

Bin tere, bin tere, bin tere
Koi khalish hai hawayon mein bin tere

Bin tere, bin tere, bin tere
Koi khalish hai hawayon mein bin tere

Ajnabi se huye kyun pal saare
Yeh nazar se nazar yeh milaate hi nahin
Ik gani dehaayi cha gayi hai


Manzilein raaston mein hi gum hone lagi
Ho gayi ansuni har dua ab meri
Reh gayi ankahi bin tere
Bin tere, bin tere, bin tere


Koi khalish hai hawayon mein bin tere
Bin tere, bin tere, bin tere
Koi khalish hai hawayon mein bin tere

Raah mein roshni ni hai kyun haath choda
Iss taraf shaam ne kyun hai apna muh moda
Yun ke har subah ik bereham si baat ban gayi


Hai kya yeh jo tere mere darmiyaan hai
Andekhi ansuni koi dastaan hai
Lagne lagi, ab zindagi khaali khaali


Lagne lagi har saans bhi khaali
Bin tere, bin tere, bin tere
Koi khalish hai hawayon mein bin tere


Bin tere, bin tere, bin tere
Koi khalish hai hawayon mein bin tere

Bin tere, bin tere, bin tere
Koi khalish hai hawayon mein bin tere

Hindi Lyrics

Lost n lonely b’coz you’re the only
One that knows me
That I can’t be without you


Lost n lonely b’coz you’re the only
One that knows me
That I can’t be without you


है क्या ये जो तेरे मेरे दरमियाँ है
अनदेखी अनसुनी कोई दास्तां है


है क्या ये जो तेरे मेरे दरमियाँ है
अनदेखी अनसुनी कोई दास्तां है


लगने लगी अब ज़िन्दगी खाली
है मेरी लगने लगी हर सांस भी खाली
[बिन तेरे…बिन तेरे…बिन तेरे
कोई खलिश है हवाओं में बिन तेरे] x 2


अजनबी से हुए क्यूँ पल सारे
ये नज़र से नज़र ये मिलाते ही नहीं


अजनबी से हुए क्यूँ पल सारे
ये नज़र से नज़र ये मिलाते ही नहीं


इक घनी तन्हाई छा रही है
मंजिलें रास्तों में ही गुम होने लगी
हो गयी अनसुनी हर दुआ अब मेरी
रह गयी अनकही बिन तेरे


[बिन तेरे…बिन तेरे…बिन तेरे
कोई खलिश है हवाओं में बिन तेरे] x 2


राह में रौशनी ने है क्यूँ हाथ छोड़ा
इस तरफ शाम ने क्यूँ है अपना मुंह मोड़ा


यूँ के हर सुबह इक बेरहम सी रात बन गयी
है क्या ये जो तेरे मेरे दरमियाँ है


अनदेखी अनसुनी कोई दास्तां है
है क्या ये जो तेरे मेरे दरमियाँ है
अनदेखी अनसुनी कोई दास्तां है


लगने लगी अब ज़िन्दगी खाली
है मेरी लगने लगी हर सांस भी खाली


[बिन तेरे…बिन तेरे…बिन तेरे
कोई खलिश है हवाओं में बिन तेरे] x 3

Leave a Reply