Maula Lyrics – Bangistan | Rituraj, Ram Sampath 2015

0
344
maula

Movie: Bangistan (2015)
Song Title: Maula Lyrics
Singers: Rituraj Mohanty, Ram Sampath
Music: Ram Sampath
Lyrics: Puneet Krishna
Music On: T-Series

English Lyrics

Mujhko kuch bhi pata nahi tha
Waqt bada hi achha tha
Mera koi dharm nahin tha
Jab main chota baccha tha
Phir ek majhab milte hi


Mera bachpan chhoot gaya
Dooje dharam ka dost wo mera
Us se rishta toot gaya
Wo zinda hai yaa mar gaya
Uska koi zikr nahin


Nahin Ishwar Maula mera
Mera Maula Ishwar nahin
Nahin Ishwar Maula mera
Mera Maula Ishwar nahin
Allah hoo Allah hoo
Hey Ram Ram Ram…


Allah hoo Allah hoo
Hey Ram Ram Ram…
Jung ki taiyyari mein hoon
Geeta Quran padh ke
Jo waqt bach gaya wo


main kaatunga tujhse lad ke
Meri to bas ye fitrat
Hathiyaar main dharunga
Jannat ho ya Jahannum
Vyaapar main karunga


Hogi ye duniya khoobsurat
Mujhko to kadar nahin
Nahin Ishwar Maula mera
Mera Maula Ishwar nahin
Nahin Ishwar Maula mera
Mera Maula Ishwar nahin


Tum mein hum mein
Har aadam mein har khushi mein
Ranj-o-gham mein
Ghunghroo mein, payal ki cham mein
Sajni mein uske baalam mein
Tu hi tu hai…


Din raat padhun wo qalma hai
Tu Dukhtar hai tu hi Maa hai
Meri rooh to aisi chumi
Mera naam aaj se Rumi hai
Tu hai to sab hai bhara bhara


Tu hai fikar nahin
Nahin Ishwar Maula mera
Mera Maula Ishwar nahin
Nahin Ishwar Maula mera
Mera Maula Ishwar nahin
Allah hoo Allah hoo
Hey Ram Ram Ram…

Hindi Lyrics

मुझको कुछ भी पता नहीं था
वक़्त बड़ा ही अच्छा था
मेरा कोई धरम नहीं था
जब मैं छोटा बच्चा था
फिर एक मज़हब मिलते ही


मेरा बचपन छूट गया
दूजे धरम का दोस्त वो मेरा
उस से रिश्ता टूट गया
वो ज़िंदा है या मर गया
उसका कोई ज़िक्र नहीं


नहीं ईश्वर मौला मेरा
मेरा मौला ईश्वर नहीं
नहीं ईश्वर मौला मेरा
मेरा मौला ईश्वर नहीं
अल्लाह हू अल्लाह हू
हे राम राम राम


अल्लाह हू अल्लाह हू
हे राम राम राम
जंग की तैयारी में हूँ
गीता क़ुरान पढ़ के
जो वक़्त बच गया वो मैं
काटूंगा तुझसे लड़ के


मेरी तो बस ये फितरत
हथियार मैं धरूंगा
जन्नत हो या जहन्नुम
व्यापार मैं करूँगा
होगी ये दुनिया खूबसूरत


मुझको तो क़दर नहीं
नहीं ईश्वर मौला मेरा
मेरा मौला ईश्वर नहीं
नहीं ईश्वर मौला मेरा
मेरा मौला ईश्वर नहीं
तुम में हम में


हर आदम में हर ख़ुशी में
रंजोग़म में, घुँघरू में
पायल की छम में
सजनी में.. उसके बालम में
तू ही तू है, तू ही तू है
तू ही तू है, तू ही तू है
तू ही तू है, तू ही तू है..


दिन रात पढूं वो कलमा है
तू दुख्तर है तू ही माँ है
मरी रूह तो ऐसी चुमी है
मेरा नाम आज से रूमी है
तू है तो सब यही भरा भरा


तू है तो फ़िक्र नहीं
नहीं ईश्वर मौला मेरा
मेरा मौला ईश्वर नहीं
नहीं ईश्वर मौला मेरा


मेरा मौला ईश्वर नहीं
अल्लाह हू अल्लाह हू
हे राम राम राम..
अल्लाह हू अल्लाह हू
हे राम राम राम..

Leave a Reply