Allah Hoo Lyrics – Dharam Sankat Mein | Sachin Gupta & Ravi Chowdhary 2015

0
339
allah-hoo

Movie: Dharam Sankat Mein (2015)
Song Title: Allah Hoo
Singers: Ravi Choudhary, Pradeep Sran
Music: Jatinder Shah, Sachin Gupta

English Lyrics

Allah hoo
Main kis mitti ka chayaa ve
Puchhe ye mera chhaya ve
Ho main kis mitti ka chayaa ve
Puchhe ye mera chhaya ve


Main hoon ki yaa nahin hoon
In sawaalo mein uljha pada hoon
Rooh meri ro rahi hai
Tu aa jaa rubaroo
Mere dardo ko dawaa de
Allah hoo allah hoo

Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu allah allah hoo
Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu allah allah hoo

Koan disha kis desh ka main
Kis rang ka kis bhesh ka main
Har ek lamhaa soch raha hoon
Khud ko bikhra dekh raha hoon


Shore itna ho raha hain
Koi khamosh meri duaan hai
Rooh meri ro rahi hai
Tu aa jaa rubaroo
Mere dardo ko dawaa de
Allah hoo allah hoo

Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu allah allah hoo
Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu allah allah hoo

Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu allah allah hoo
Allah allah allah hoo

Dhoop mein aise bheeg raha hoon
Haar raha na jeet raha hoon
Pair tale hai kaanch ke raste
Aansu nikale hanste hanste
Aisa bhatka ye musafir


Na manzil ma ghar ka pataa hai
Rooh meri ro rahi hai
Tu aa jaa rubaroo
Mere dardo ko dawaa de
Allah hoo allah hoo

Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu allah allah hoo
Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu allah allah hoo

Allah allah allah hoo
Koan hoon main yeh bata de tu
Ishwar allah tu hi tu

Hindi Lyrics

अल्ला हू
मैं किस मिट्टी का छाया वे
पूछे ये मेरा छाया वे
हो मैं किस मिट्टी का छाया वे
पूछे ये मेरा छाया वे
मैं हूं कि या नहीं हूं


इन सवालों में उलझा पड़ा हूं
रूह मेरी रो रही है
तू आ जा रूबरू
मेरे दर्दों को दवा दे
अल्ला हू अल्ला हू
अल्ला अल्ला अल्ला हू


कौन हूं मैं यह बता दे तू
ईश्वर अल्ला तू ही तू अल्ला अल्ला हू
अल्ला अल्ला अल्ला हू
कौन हूं मैं यह बता दे तू


ईश्वर अल्ला तू ही तू अल्ला अल्ला हू
कौन दिशा किस देश का मैं
किस रंग का किस भेष का मैं
हर एक लम्हा सोच रहा हूं
खुद को बिखरा देख रहा हूं


शोर इतना हो रहा हैं
कोई खामोश मेरी दुआ है
रूह मेरी रो रही है
तू आ जा रूबरू
मेरे दर्दों को दवा दे
अल्ला हू अल्ला हू
अल्ला अल्ला अल्ला हू


कॉआन हूं मैं यह बता दे तू
ईश्वर अल्ला तू ही तू अल्ला अल्ला हू
अल्ला अल्ला अल्ला हू
कॉआन हूं मैं यह बता दे तू
ईश्वर अल्ला तू ही तू अल्ला अल्ला हू
अल्ला अल्ला अल्ला हू


कॉआन हूं मैं यह बता दे तू
ईश्वर अल्ला तू ही तू अल्ला अल्ला हू
अल्ला अल्ला अल्ला हू
धूप में ऐसे भीग रहा हूं
हार रहा ना जीत रहा हूं


पैर तले है कांच के रास्ते
आंसू निकले हंसते हंसते
ऐसा भटका ये मुसाफिर
ना मंज़िल ना घर का पता है


रूह मेरी रो रही है
तू आ जा रूबरू
मेरे दर्दों को दवा दे
अल्ला हू अल्ला हू

Leave a Reply