Main Aur Charles – Ya Rabba lyrics 2015

0
205
ya-rabba

Movie: Main Aur Charles (2015)
Singers: Saugat Upadhaya
Song Lyricists: Rohan Moktali
Music Composer: Bally Grunge
Music Director: Bally Grunge
Music Label: T-Series

English Lyrics

Ranjishein mohabbat hain
Khud pe hi hairaan hain hum
Dhunki aisi laagi hai
Zamaane mein badnaam hain hum

Teri raahon mein sajda karti hoon
Na bann tu sangdil
Meri rooh mein tu hi shamil hai
Tu hi meri manzil, o ho..

Ik aadat saa tu ban gaya hai ban gaya hai
Ya rabba kaisi preet hai
Jo maari maari main firti hoon
Kyun ishq mein kamli ho gayi main
Din rain main aahein ab bharti hoon
Dil baawra ho gaya hai

Dhadkan meri jashn pe bhi
Tujhko hi bas pukaare
Ye dil mera deewana

Maine kyun marz ye le liya hai
Khud ko kyun khud ko kyun
Dard ye de diya hai
Ye kasak kaisi hai
Dassta hai humraaton ka samaa

Teri fitrat mein bewafaai hai
Mere gham se tu anjaan
Tere ishq mein be-garari hai
Zidd tujhpe hai qurbaan
Teri chahat ka rang chadh gaya hai,
Chadh gaya hai

Ya rabba kaisi preet hai
Jo maari maari main firti hoon
Kyun ishq mein kamli ho gayi main
Din rain main aahein ab bharti hoon
Dil baawra ho gaya hai

Ya rabba kaisi preet hai
Jo maari maari main firti hoon
Kyun ishq mein kamli ho gayi main
Din rain main aahein ab bharti hoon

Ya rabba kaisi preet hai
Jo maari maari main firti hoon
Kyun ishq mein kamli ho gayi main
Din rain main aahein ab bharti hoon

Hindi Lyrics

रंजिशें मोहब्बत हैं
खुद पे ही हैरान हैं हम
धुनकी ऐसी लागि है
ज़माने में बदनाम हैं हम

तेरी राहों में सजदा करती हूँ
न बन तू संगदिल
मेरी रूह में तू ही शामिल है
तू ही मेरी मंज़िल

इक आदत सा तू बन गया है बन गया है
या रब्बा कैसी प्रीत है
जो मारी मारी मैं फिरती हूँ
क्यों इश्क़ में कमली हो गयी मैं
दिन रेन मैं आहें अब भरती हूँ
दिल बावरा हो गया है

धड़कन मेरी जश्न पे भी
तुझको ही बस पुकारे
ये दिल मेरा दीवाना

मैंने क्यूँ मर्ज़ ये ले लिया है
खुद को क्यों खुद को क्यों
दर्द ये दे दिया है
ये कसक कैसी है
दस्ता है हमरातों का सामा

तेरी फितरत में बेवफाई है
मेरे ग़म से तू अन्जान
तेरे इश्क़ में बे-गरारी है
ज़िद्द तुझपे है क़ुर्बान
तेरी चाहत का रंग चढ़ गया है
चढ़ गया है

या रब्बा कैसी प्रीत है
जो मारी मारी मैं फिरती हूँ
क्यों इश्क़ में कमली हो गयी मैं
दिन रेन मैं आहें अब भरती हूँ
दिल बावरा हो गया है

या रब्बा कैसी प्रीत है
जो मारी मारी मैं फिरती हूँ
क्यों इश्क़ में कमली हो गयी मैं
दिन रेन मैं आहें अब भरती हूँ

या रब्बा कैसी प्रीत है
जो मारी मारी मैं फिरती हूँ
क्यों इश्क़ में कमली हो गयी मैं
दिन रेन मैं आहें अब भरती हूँ.

Leave a Reply