GUDDU RANGEELA LYRICS (TITLE SONG) 2015

0
186
guddu-rangeela

Song Title: Guddu Rangeela Title Song Lyrics
Movie: Guddu Rangeela (2015)
Singer: Amit Trivedi, Divya Kumar
Composer: Amit Trivedi
Lyrics: Irshad Kamil

English Lyrics

Hey gali jaise gandh hai
Meete kalakand hai
Jhute ki jodi sa joda hai inka
Hey pauwa addha saath mein
Chunni leke raat mein


Naada bhi thoda sa dheela hai jinka
Thaali ke baingan
Dono jan Guddu Rangeela
Arre waise gentlemen
Dono jan Guddu Rangeela
Do baagi, hai anuraagi


Dono ke piche phir maut bhaagi hoye
Arre yeh bhogi hai beraagi
Hai saaf aage se piche se daagi
Hai yeh lafundar, yeh bawandar
Yeh sikandar, yeh kalandar


Koi na jaane ke dono hai kya
Hey Dono pakke deet hain
Aansu peete neat hain
Dil se bhi naata hai thoda inka
Baaton ki saudagiri, ho kissi dadagiri
Kattu sa daude hai ghoda bhi jinka


Thaali ke baingan
Dono jan Guddu Rangeela
Arre waise gentlemen
Dono jan Guddu Rangeela
Yeh paaji dikhdambaazi


Mein ki hai dono ne
BA tazi tazi hoye hoye..
Oye rang birange
Inke lahu mein
daude sharafat se purri dhokebaazi
Kabhi murgi, kabhi ande


Kabhi roti, kabhi dande
Khake sote hai taange faila..
Hai puti seedhi harkatein
Dheeli dhali kismatein


Laaton ke bhooton se ristha hai inka
Oye jaane saare totke
Pichhe bhage note ke
Chiller se koi na matlab jinka


Thaali ke baingan
Dono jan Guddu Rangeela
Arre waise gentlemen
Dono jan Guddu Rangeela

Hindi Lyrics

हे..
गाली जैसे गंद हैं,
मीठे कलाकंद हैं
झूठे की जोड़ी सा जोड़ा है इनका
हे


पौवा अद्धा साथ में
चुन्नी लेके रात में
नाडा भी थोड़ा सा ढीला है जिनका
थाली के बैंगन
दोनों जन, गुड्डू रंगीला


अरे वैसे जेंटल्मेन
दोनों जन गुड्डू रंगीला
दो बागी, हैं अनुरागी
दोनों के पीछे फिर मौत भागी
होये!


अरे यह भोगी है बेरागी
है साफ आगे से पीछे से दागी
है यह लफंडर, यह बवंडर
यह सिकंदर, यह कलंदर
कोई ना जाने के दोनों है क्या
हे


दोनो पक्के ढीठ हैं
आंसू पीते नीट हैं
दिल से भी नाता है थोड़ा इनका
बातों की सौदागिरी, हो क़िस्सी दादागिरी
टट्टू सा दौड़े है घोड़ा भी जिनका


ताली के बैंगन
दोनों जन, गुड्डू रंगीला
अरे वैसे जेंटल्मेन
दोनों जन, गुड्डू रंगीला
ये पाजी तिकड़मबाज़ी
में की है दोनों ने
बीए ताज़ी ताज़ी होये होये..


ओये रंग बिरंगे,
इनके लहू में
दौड़े शराफ़त से पूरी धोकेबाज़ी
कभी मुर्गी, कभी अंडे
कभी रोटी, कभी डंडे


खा के सोते है टांगे फैला
हैं उल्टी सीधी हरकतें
ढीली ढाली किस्मतें
लातों के भूतों से रिश्ता है इनका
ओये जानें सारे टोटके


पीछे भागें नोट के
चिल्लर से कोई ना मतलब जिनका
थाली के बैंगन
दोनों जन, गुड्डू रंगीला
अरे वैसे जेंटल्मेन
दोनों जन, गुड्डू रंगीला

Leave a Reply