Dard Karaara Lyrics – Dum Laga Ke Haisha 2015

0
434
dard-karara

Movie: Dum Laga Ke Haisha (2015)
Song Title: Dard Karaara Lyrics
Singer: Kumar Sanu and Sadhana Sargam
Composer: Anu Malik
Lyrics: Varun Grover
Music label: Yash Raj Films

English Lyrics

Khuda se zyada tumpe aitbar karte hain
Khuda hai jaan ke bhi
karte hain, karte hain
Tu meri hai prem ki bhasha


Likhta hoon tujhe roz zara sa
Tu meri hai prem ki bhasha
Likhta hoon tujhe roz zara sa
Kore kore kaghaz jinpe bekas
Kore kore kaghaz jinpe bekas


Likhta hoon yeh khulasa
Tumse mile dil mein utha Dard karaara
Jeene laga wohi jise ishq ne maara
Tumse mile dil mein utha dard karaara
Jeene laga wohi jise ishq ne maara


Tu meri hai prem ki bhasha
Likhti hoon tujhe roz zara sa
Tu meri hai prem ki bhasha
Likhti hoon tujhe roz zara sa
Kore kore kaghaz jinpe bekas
Kore kore kaghaz jinpe bekas


Likhti hoon yeh khulasa
Tumse mile dil mein utha dard karaara
Jeene laga wohi jise ishq ne maara
Tumse mile dil mein utha dard karaara
Jeene laga wohi jise ishq ne maara


Abhi abhi dhoop thi yahan pe lo
Ab barsaaton ki dhaara
Jeb hai khaali, pyar ke sikkon se
Aao kar lein ghuzara
Kabhi kabhi aaine se poochha hai


Kisne roop sanwara
Kabhi lagoon mohini
Kabhi lagoon chandini
Kabhi chamkeela sitara


Kitna sambhal lein, bachkar chal lein
Dil to dheeth awara
Tumse mile dil mein utha dard karaara
Jeene laga wohi jise ishq ne maara
Tumse mile dil mein utha dard karaara
Jeene laga wohi jise ishq ne maara

Hindi Lyrics

ख़ुदा से ज़्यादा तुमपे ऐतबार करते हैं
गुनाह है जान के भी बार बार करते हैं
बार बार करते हैं..
तू मेरी है प्रेम की भाषा


लिखता हूँ तुझे रोज़ ज़रा सा
तू मेरी है प्रेम की भाषा
लिखता हूँ तुझे रोज़ ज़रा सा
कोरे कोरे कागज़ जिनपे बेकस
कोरे कोरे कागज़ जिनपे बेकस


लिखता हूँ ये खुलासा
तुमसे मिले दिल में उठा दर्द करारा
जीने लगा वही जिसे इश्क़ ने मारा
तुमसे मिले दिल में उठा दर्द करारा
जीने लगा वही जिसे इश्क़ ने मारा


तू मेरी है प्रेम की भाषा
लिखती हूँ तुझे रोज़ ज़रा सा
तू मेरी है प्रेम की भाषा
लिखती हूँ तुझे रोज़ ज़रा सा
कोरे कोरे कागज़ जिनपे बेकस
कोरे कोरे कागज़ जिनपे बेकस


लिखती हूँ ये खुलासा
तुमसे मिले दिल में उठा दर्द करारा
जीने लगा वही जिसे इश्क़ ने मारा
तुमसे मिले दिल में उठा दर्द करारा
जीने लगा वही जिसे इश्क़ ने मारा


अभी अभी धुप थी यहां पे लो
अब बरसातों की धारा
जेब हैं खाली, प्यार के सिक्कों से
आओ कर लें गुज़ारा
कभी कभी आईने से पुछा है
किसने रूप संवारा ?
कभी नग़मों ही ने, कभी लब चाँद ने
कभी चमकीला सितारा
कितना संभल ले, बचकर चल लें
दिल तो ढीठ आवारा
तुमसे मिले दिल में उठा दर्द करारा
जीने लगा वही जिसे इश्क़ ने मारा
तुमसे मिले दिल में उठा दर्द करारा
जीने लगा वही जिसे इश्क़ ने मारा

Leave a Reply