तू चाहिए – Tu Chahiye LyricsIn English & Hindi – Bajrangi Bhaijaan | “Atif Aslam” 2015

0
553
tu-chahiye

Movie: Bajrangi Bhaijaan (2015)
Song Title: Tu Chahiye Lyrics
Singer: Atif Aslam
Music: Pritam
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Music On: T-Series

Tu Chahiye Bollywood Hindi song written by Amitabh Bhattacharya From The Movie Bajrangi Bhaijaan (2015). The Singer of the song is Atif Aslam . The music Composer of the film is Pritam . The music has been realeased by T- series

English Lyrics

Haal-e-Dil ko sukoon chahiye
Poori ik aarzoo chahiye
Jaise pehle kabhi kuch bhi chaaha nahi
Waise hi kyun chahiye


Dil ko teri mojoodgi ka ehsaas yun chahiye
Tu chahiye, tu chahiye
Shaam-o-subah tu chahiye
Tu chahiye.. Tu chahiye..


Har martabaa Tu chahiye
Jitni dafaa.. zidd ho meri
Utni dafaa.. haan, Tu chahiye


Wo o……..
Wo oo………
Koi aur dooja kyun mujhe
Na tere siva chahiye
Har safar mein mujhe


Tu hi rehnuma chahiye
Jeene ko bas mujhe
Tu hi meherbaan chahiye


Ho…….
Seene mein agar tu dard hai
Na koi dawaa chahiye
Tu lahu ki tarah


Ragon mein rawaan chahiye
Anjaam jo chaahe mera ho
Aagaaz yun chahiye


Tu chahiye, tu chahiye
Shaam-o-subah tu chahiye
Tu chahiye.. tu chahiye….


Har martabaa tu chahiye
Jitni dafaa.. zidd ho meri
Utni dafaa.. haan, tu chahiye
Wo oo…..


Wo oo…..
Mere zakhmon ko teri chhuan chahiye
Meri shamma ko teri agan chahiye


Mere khwaab ke aashiyane mein tu chahiye
Main kholun jo aankhein sirhane bhi tu chahiye


Wo ho…
Wo ho ho…

Hindi Lyrics

हाल-ए-दिल को सुकून चाहिए
दूरी इक आरज़ू चाहिए


जैसे पहले कभी कुछ भी चाहा नहीं
वैसे ही क्यों चाहिए ?


दिल को तेरी
मौजूदगी का एहसास यूँ चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए


शाम-ओ-सुबह तू चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए
हर मर्तबा तू चाहिए


जितनी दफ़ा.. ज़िद्द हो मेरी
उतनी दफ़ा.. हाँ तू चाहिए
वो हो..


कोई और दूजा क्यों मुझे
ना तेरे सिवा चाहिए
हर सफर में मुझे
तू ही रहनुमा चाहिए


जीने को बस मुझे
तू ही मेहरमा चाहिए
हो सीने में अगर तू दर्द है


ना कोई दवा चाहिए
तू लहू की तरह
रागों में रवां चाहिए


तू लहू की तरह
रागों में रवां चाहिए


अंजाम जो चाहे मेरा
हो आगाज़ यूँ चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए


शाम-ओ-सुबह तू चाहिए
तू चाहिए, तू चाहिए
हर मर्तबा तू चाहिए


जितनी दफ़ा.. ज़िद्द हो मेरी
उतनी दफ़ा.. हाँ तू चाहिए
वो हो..


मेरे ज़ख्मों को तेरी छुअन चाहिए
मेरे शम्मा को तेरी अगन चाहिए


मेरे ख्वाब के आशियाने में तू चाहिए
मैं खोलूं जो आँखें सिरहाने भी तू चाहिए
वो हो..

Leave a Reply