Main Agar Kahoon Lyrics – Om Shanti Om 2007

0
586

Song title: Main Agar Kahun lyrics
Movie: Om Shanti Om
Singers: Sonu Nigam, Shreya Ghoshal
Lyrics: Javed Akhtar
Music: Vishal-Shekhar
Star Casts: Shahrukh Khan, Deepika Padukone
Year: 2007
Music label: T-Series

English Lyrics


Main Aagar Kahoon Tumsa Haseen
Kaynaat Mein Nai Hai Kahin

Tareef Yeh Bhi To Sach Hai Kuch Bhi Nahi
Tumko Paya Hai To Jaise Khoya Hoon..
Shokhiyon Mein Dooobi Yeh Aadayein


Chehre Se Jhalki Hui Hain
Zulf Ki Ghani Ghani Ghatayein

Shaan Se Dhalki Hui Hain
Lehrata Aanchal Hai Jaise Badal
Bhaahon Mein Bhari Hai Jaise Chandani
Roop Ki Chandani

Main Agar Kahoon Yeh Dilkashi
Hai Nahi Kahin Na Hogi Kabhi
Tareef Yeh Bhi To Sach Hai Kuch Bhi Nahi

Tumko Paya Hai To Jaise Khoya Hoon..
Tum Hue Meherbaan
To Hai Yeh Dastan
Hoo Tum Hue Meherbaan

To Hai Yeh Dastan
Abb Tumhara Mera Ek Hai Karwaan
Tum Jahan Mein Wahan
Main Agar Kahoon
Humsafar Meri


Apsara Ho Tum Ya Koi Pari
Tareef Yeh Bhi To Sach Hai Kuch Bhi Nahi
Tumko Paya Hai To Jaise Khoya Hoon..
Kehna Chahoon Bhi To Tumse Kya Kahon

Kisi Zabaon Mein Bhi Woh Labaz Hi Nahi
Ki Jeen Mein Tum Ho Kya Tumhein Mein Bata Sakun


Main Aagar Kahoon Tumsa Haseen
Kaynaat Mein Nai Hai Kahin

Tareef Yeh Bhi To Sach Hai Kuch Bhi Nahi
Tumko Paya Hai To Jaise Khoya Hoon…

Hindi lyrics

तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ
कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ
तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ


कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ
किसी जबां में भी वो लफ्ज़ ही नहीं
के जिन में तुम हो क्या तुम्हें बता सकूँ


मैं अगर कहूँ तुम सा हसीं
कायनात में नहीं है कहीं
तारीफ़ ये भी तो सच है कुछ भी नहीं


शोखियों में डूबी ये अदायें
चेहरे से झलकी हुई हैं


जुल्फ़ की घनी घनी घटायें
शान से ढलकी हुई हैं
लहराता आँचल है जैसे बादल


बाहों में भरी है जैसे चाँदनी
रूप की चाँदनी
मैं अगर कहूँ


ये दिलकशी है नहीं कहीं, ना होगी कभी
तारीफ़ ये भी तो सच है कुछ भी नहीं
तुम हुए मेहरबान, तो है ये दास्ताँ


अब तुम्हारा मेरा एक है कारवाँ, तुम जहाँ में वहाँ
मैं अगर कहूँ हमसफ़र मेरी
अप्सरा हो तुम, या कोई परी


तारीफ यह भी तो, सच है कुछ भी नहीं
तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ
कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ


किसी जबां में भी वो लफ्ज़ ही नहीं
के जिन में तुम हो क्या तुम्हें बता सकूँ
मैं अगर कहूँ तुम सा हसीं


कायनात में नहीं है कहीं
तारीफ़ ये भी तो सच है कुछ भी नहीं

Leave a Reply