Main Yahan Tu Wahan Lyrics – Baghban 2003

0
228

Song Title: Main Yahan Tu Wahan
Movie: Baghban (2003)
Singer(s): Amitabh Bachchan, Alka Yagnik
Music: Aadesh Shrivastava
Lyrics: Sameer
Star Cast: Amitabh Bachchan, Hema Malini and others
Music Lables: T-Series

English Lyrics

Main Yahan Tu Wahan, Jindagi Hai Kahan
Main Yahan Tu Wahan, Jindagi Hai Kahan
Main Yahan Tu Wahan, Jindagi Hai Kahan


Tu Hi Tu Hai Sanam Dekhta Hoon Jahan
Neend Aati Nahi Yaad Jaati Nahi
Neend Aati Nahi Yaad Jaati Nahi
Bin Tere Abb Jiya Jaaye Naa\


Main Yahan Tu Wahan, Jindagi Hai Kahan
Waqt Jaise Thehar Gaya Hai Yehi,
Har Taraf Ek Ajab Udaasi Hai
Bekarari Kaa Aisa Aalam Hai,
Jism Tanhaa Hai Ruhh Pyaasi Hai
Teri Surat Abb Ek Pal


Kyun Najar Se Hatati Nahi
Raat Din Toh Kat Jate Hain,
Umar Tanhaa Katati Nahi
Chah Ke Bhi Naa Kuchh Kah Saku Tujhse Main
Chah Ke Bhi Naa Kuchh Kah Saku Tujhse Main


Dard Kaise Karu Main Bayaan
Main Yahan Tu Wahan, Jindagi Hai Kahan
Jab Kahi Bhi Aahat Huyi,
Yun Laga Ke Tu Aa Gaya


Khushbu Ke Jhonke Ki Tarah
Meri Sansein Mahka Gaya
Ek Woh Daur Tha, Hum Sada Pas They
Ek Woh Daur Tha, Hum Sada Pas They


Abb Toh Hain Fassley Darmiyan
Main Yahan Tu Wahan, Jindagi Hai Kahan
Beete Baatein Yaad Aati Hain,
Jab Akela Hota Hoon Main
Bolti Hain Khamoshiya,


Sabse Chhupke Rota Hoon Main
Ek Arsaa Huya Muskuraye Huye
Ek Arsaa Huya Muskuraye Huye
Aansuon Mein Dhali Dastan


Main Yahan Tu Wahan, Jindagi Hai Kahan
Tu Hi Tu Hai Sanam Dekhta Hoon Jahan


Neend Aati Nahi Yaad Jaati Nahi
Neend Aati Nahi Yaad Jaati Nahi
Bin Tere Abb Jiya Jaaye Naa

Hindi Lyrics

मैं यहाँ तू वहाँ ज़िंदगी है कहाँ
मैं यहाँ तू वहाँ ज़िंदगी है कहाँ

तू ही तू है सनम देखता हूं जहाँ
नींद आती नहीं याद जाती नहीं
नींद आती नहीं याद जाती नहीं
बिन तेरे अब जिया जाए ना

मैं यहाँ तू वहाँ ज़िंदगी है कहाँ

वक़्त जैसे ठहर गया है यहीं
हर तरफ एक अजब उदासी है
बेक़ारारी का ऐसा आलम है
जिस्म तन्हा है रूह प्यासी है

तेरी सूरत अब एक पल
क्यूँ नज़र से हटती नहीं
रात दिन तो काट जाते हैं
उम्र तन्हा कटती नहीं


चाह के भी न कुछ कह सकूँ तुझसे मैं
चाह के भी ना कुछ कह सकूँ तुझसे मैं
दर्द कैसे करूँ मैं बयान

मैं यहाँ तू वहाँ ज़िंदगी है कहाँ

जब कहीं भी आहट हुई
यूँ लगा के तू आ गया
खुश्बू के झोंके की तरह
मेरी साँसें महका गया


एक वो दौर था हम सदा पास थे
एक वो दौर था हम सदा पास थे
अब तो हैं फ़ासले दरमियाँ

मैं यहाँ तू वहाँ ज़िंदगी है कहाँ
ऊँ.. हूँ…

बीती बातें याद आती हैं
जब अकेला होता हूँ मैं
बोलती हैं खामोशियाँ
सबसे छुपके रोता हूँ मैं


एक अरसा हुआ मुस्कुराए हुए
एक अरसा हुआ मुस्कुराए हुए
आँसुओं में ढली दास्तान

मैं यहाँ तू वहाँ ज़िंदगी है कहाँ

तू ही तू है सनम देखता हूँ जहाँ
नींद आती नहीं याद जाती नहीं


नींद आती नहीं याद जाती नहीं
बिन तेरे अब जिया जाए ना

Leave a Reply