JANE KYUN LOG Lyrics – Dil Chahta Hai 2001

0
76

Song Title: Jane Kyun Log Lyrics
Movie: Dil Chahta Hai (2001)
Singer: Udit Narayan, Alka Yagnik
Lyrics: Javed Akhtar
Music: Shankar Ehsaan Loy
Music Label: T-Series
Year: 2001

English Lyrics

Jaane kyun log pyar karte hain
jaane kyun wo kisi pe marte hain
jaane kyun log pyar karte hain
jaane kyun wo kisi pe marte hain

jaane kyun.. jaane kyun
jaane kyun, jaane kyun, jaane kyun

pyar mein sochiye to bas gum hai
pyar mein jo sitam bhi ho kam hai
pyar mein sar jhukana padhta hai

dard mein muskurana padhta hai
zahar kyun zindagi mein bharate hain
jane kyun wo kisi pe marate hain

jaane kyun.. jaane kyun
jaane kyun, jaane kyun, jaane kyun

pyar bin jeene mein rakha kya hai
pyar jiss ko nahin wo tanha hai

pyar bin jeene mein rakha kya hai
pyar jiss ko nahin wo tanha hai
pyar sau rang le ke aata hai
pyar hi zindagi sajata hai

log chup chup ke pyar karte hain
jaane kyun saaf kahate darte hain

jaane kyun.. jaane kyun
jaane kyun, jaane kyun, jaane kyun
pyar bekar ki musibat hai
pyar har tarah khubasurat hai


ho.. pyar se hum door hi achche
are pyar ke sab roop hain sachche

ho.. pyar ke ghat jo utarte hain
doobate hain na wo ubharate hain
jaane kyon.. jaane kyon


pyar to khair sabhi karate hain
jaane kyon aap hi mukarte hain
jaane kyun.. jaane kyun
jaane kyun, jaane kyun, jaane kyun

Hindi Lyrics

(जाने क्यूँ लोग प्यार करते हैं
जाने क्यूँ वो किसी पे मरते हैं) x 2
जाने क्यूँ.. जाने क्यूँ
जाने क्यूँ, जाने क्यूँ
जाने क्यूँ


प्यार में सोचिए तो बस गम है
प्यार में जो सितम भी हो कम है
प्यार में सर झुकाना पड़ता है
दर्द में मुस्कुराना पड़ता है
ज़हर क्यूँ ज़िंदगी में भरते हैं


जाने क्यूँ वो किसी पे मरते हैं
जाने क्यूँ.. जाने क्यूँ
जाने क्यूँ, जाने क्यूँ
जाने क्यूँ


(प्यार बिन जीने में रखा क्या है
प्यार जिस को नहीं वो तन्हा है) x 2
प्यार सौ रंग ले के आता है
प्यार ही ज़िंदगी सजाता है
लोग छुप छुप के प्यार करते हैं


जाने क्यूँ साफ़ कहते डरते हैं
जाने क्यूँ.. जाने क्यूँ
हो जाने क्यूँ, जाने क्यूँ
जाने क्यूँ


प्यार बेकार की मुसीबत है
प्यार हर तरह खूबसूरत है
हो.. प्यार से हम दूर ही अच्छे
अरे प्यार के सब रूप हैं सच्चे


हो प्यार के घाट जो उतरते हैं
डूबते हैं न वो उभरते हैं
जाने क्यूँ.. जाने क्यूँ


प्यार तो खैर सभी करते हैं
जाने क्यूँ आप ही मुकरते हैं
जाने क्यूँ.. जाने क्यूँ
जाने क्यूँ, जाने क्यूँ
जाने क्यूँ

Leave a Reply