Ek Tu Hi Bharosa Lyrics – Pukar | Lata Mangeshkar 2000

0
518

Song Title: Ek Tu Hi Bharosa
Movie: Pukar
Singers: Lata Mangeshkar, Kids
Music: A R Rahman
Lyrics: Majrooh Sultanpuri & Javed Akhtar
Music label: Venus

English Lyrics

Ek tu hi bharosa, ek tu hi sahaara
Is tere jahan mein nahin koi hamaara
Eeshwar ya allah, yeh pukaar sun le


Eeshwar ya allah hai daata
Eeshwar ya allah, yeh pukaar sun le
Eeshwar ya allah hai daata

Ek tu hi bharosa, ek tu hi sahaara
Is tere jahan mein nahin koi hamaara
Eeshwar ya allah, yeh pukaar sun le


Eeshwar ya allah hai daata
Eeshwar ya allah, yeh pukaar sun le
Eeshwar ya allah hai daata

Humse na dekha jaaye barbaadiyon ka sama
Ujdi hui basti mein
yeh tadap rahe insaan

Humse na dekha jaaye barbaadiyon ka sama
Ujdi hui banti mein
yeh tadap rahe insaan

Nanhe jismon ke tukde
liye khadi hai ek maa
Baarood ke dhuen mein
tu hi bol jaaye kahan

Ek tu hi bharosa
Ek tu hi sahaara
Is tere jahan mein


Nahin koi hamaara
Hey eeshwar ya allah, yeh pukaar sun le
Hey Eeshwar ya allah hey daata

Hey Eeshwar ya allah, yeh pukaar sun le
Hey Eeshwar ya allah hey daata

Hindi Lyrics 

आ जा के सब मिलके रब से दुआ मांगे
जीवन में सुकून चाहे, चाहत में वफ़ा मांगे
हालात बदलने में अब देर ना हो मालिक
जो दे चुके फिर यह अंधेर न हो मालिक


एक तू ही भरोसा, एक तू ही सहारा
इस तेरे जहां मे नहीं कोई हमारा
ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले
ईश्वर या अल्लाह है दाता
ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले


ईश्वर या अल्लाह है दाता
एक तू ही भरोसा, एक तू ही सहारा
इस तेरे जहाँ में नहीं कोई हमारा
ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले
ईश्वर या अल्लाह है दाता


ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले
ईश्वर या अल्लाह है दाता
हमसे न देखा जाए बर्बादियों का समा
उजड़ी हुई बस्ती में ये तड़प रहे इंसान
हमसे न देखा जाए बर्बादियों का समा


उजड़ी हुई बस्ती में ये तड़प रहे इंसान
नन्हे जिस्मों के टुकड़े लिए खड़ी है एक माँ
बारूद के धुए में तू ही बोल जाए कहाँ
एक तू ही भरोसा
एक तू ही सहारा


इस तेरे जहा मे
नही कोई हमारा
ईश्वर या अल्लाह, यह पुकार सुन ले
ईश्वर या अल्लाह है दाता..
ईश्वर या अल्लाह, यह पुकार सुन ले
ईश्वर या अल्लाह है दाता..


नादां है हम तो मालिक, क्यों दी हमें यह सजा,
यहाँ है सभी के दिल मे नफरत का ज़हर भरा..
नादां है हम तो मालिक, क्यों दी हमें यह सजा
यहाँ है सभी के दिल में नफरत का ज़हर भरा..


इन्हे फिर से याद दिला दे सबक वोही प्यार का
बन जाए गुलशन फिर से काँटों भरी दुनिया
एक तू ही भरोसा, एक तू ही सहारा
इस तेरे जहां मे नहीं कोई हमारा
ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले


ईश्वर या अल्लाह है दाता
ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले
ईश्वर या अल्लाह है दाता
मेरी पुकार सुन ले..
ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले


ईश्वर या अल्लाह है दाता
हे इश्वर या अल्लाह..
ईश्वर या अल्लाह, ये पुकार सुन ले
ईश्वर या अल्लाह है दाता
मेरी पुकार सुन ले.. मेरी पुकार सुन ले..
मेरी पुकार सुन ले…

Leave a Reply