Zindagi Hindi Lyrics – Shafqat Amanat Ali | Raaz 3 – 2012

0
246
ZINDAGI

Song Title: Zindagi
Movie: Raaz 3
Singer: Shafaqat Ali
Lyrics: Sanjay Masoomm
Music: Jeet Ganguli
Music Label: T-Series

English Lyrics

Zindagi se churaake
Zindagi mein basaake
Zindagani banaya hai tujhe
Roothe rab ko manaake
Aasmaan ko jhukaake


Zindagani banaya hai tujhe
Tu mila jiss tarah sabah miley
Tu mila jiss tarah silah miley
Tu mila jiss tarah dua miley bakhudaa
Tu mila toh jaise main jee gaya
Tu mila mukhamal main ho gaya
Tu mila toh faila hai noor sa bakhudaa
Zindagi se churaake


Zindagi mein basaake
Zindagani banaya hai tujhe
Mehfoos tu mehsoos kar
Tere paas hoon main sada
Tujhse nahi ho sakta main
Pal bhar bhi ab judaa


Ab saath hain hum iss tarah
Aankhon ke sang palkein
Aa waqt ko yeh baat hum
Ik baar phir se kehdein
Saare gum se chupaake
Har nazar se bachaake
Zindagani banaya hai tujhe


Tu mila jiss tarah sabah miley
Tu mila jiss tarah silah miley
Tu mila jiss tarah dua miley bakhudaa
Tu mila toh jaise main jee gaya
Tu mila mukhamal main ho gaya
Tu mila toh faila hai noor sa bakhudaa
Baahon mein aa


Ho jayengey
Shikvey sabhi khud fanaa
Hothon se main tujhko suno
Aankhon se tu kuch suna
Tu aks hain, main aayina
Phir kya hai sochna


Ek doosre mein khokey hai
Ek doosre ko paana
Kismaton ko jagaake
Har jahaan ko haraake
Zindagani banaya hai tujhe


Tu mila jiss tarah sabah miley
Tu mila jiss tarah silah miley
Tu mila jiss tarah dua miley bakhudaa
Tu mila toh jaise main jee gaya
Tu mila mukhamal main ho gaya
Tu mila toh faila hai noor sa bakhudaa

Hindi Lyrics

ज़िन्दगी से चुरा के
ज़िन्दगी में बसा के
जिंदगानी बनाया है तुझे
रूठे रब को मना के
आसमा को झुका के


जिंदगानी बनाया है तुझे
तू मिला जिस तरह सबा मिले
तू मिला जिस तरह सिला मिले
तू मिला जिस तरह दुआ मिले बाखुदा
तू मिला तो जैसे मैं जी गया
तू मिला मुकम्मल मैं हो गया


तू मिला तो फैला है नूर सा बाखुदा
ज़िन्दगी से चुरा के
ज़िन्दगी में बसा के
जिंदगानी बनाया है तुझे


महफूज़ तू महसूस कर, तेरे पास हूँ मैं सदा
तुझसे नहीं हो सकता मैं पल भर भी अब जुदा
अब साथ हैं हम इस तरह आँखों के संग पलके
अब वक़्त को ये बात हम इक बार फिर से कह दें
सारे गम को छुपा के
हर नज़र से बचा के


जिंदगानी बनाया है तुझे
तू मिला जिस तरह सबा मिले
तू मिला जिस तरह सिला मिले
तू मिला जिस तरह दुआ मिले बाखुदा
तू मिला तो जैसे मैं जी गया
तू मिला मुकम्मल मैं हो गया


तू मिला तों फैला है नूर सा बाखुदा
बाँहों में आ हो जायेंगे शिकवे सभी खुद फन्ना
होठों से मैं तुझको सुनु आँखों से तू कुछ सूना
तू अक्स है मैं आइना फिर क्या है सोचना
इक दूसरे में खो के है इक दुसरे को पाना
किस्मतों को जगा के हर जहाँ को हारा के


जिंदगानी बनाया है तुझे
तू मिला जिस तरह सबा मिले
तू मिला जिस तरह सिला मिले
तू मिला जिस तरह दुआ मिले बाखुदा
तू मिला तो जैसे मैं जी गया
तू मिला मुकम्मल मैं हो गया
तू मिला तों फैला है नूर सा बाखुदा

Leave a Reply