Phir Mohabbat / Dil Sambhal Ja Zara Lyrics – Murder 2 – 2011

0
439
Murder-2

Song Title: Dil Sambhal Ja Zara/ Phir Mohabbat
Movie: Murder 2 (2011)
Singers: Md. Irfan, Arijit Singh, Salim Bhatt
Lyrics: Sayeed Quadri
Music: Mithoon
Music label: T-Series

English Lyrics

Jab jab tere paas main aaya
Ik sukoon mila..
Jise main tha bhoolta aaya
Woh wajood mila..
Jab aaye mausam gham ke
Tujhe yaad kiya
Ho….


Jab sehme tanhapan se
Tujhe yaad kiya
Hmm.. dil..
Sambhal ja zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu


Dil.. yahin ruk jaa zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu
Aisa kyun kar hua
Janu naa
Main janu naa
O..o..


Dil.. sambhal ja zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu
Dil.. yahin ruk jaa zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu
Jis raah pe


Hai ghar tera
Aksar wahan se
Haan main hoon guzra
shayad yahi
Dil mein raha
Tu mujh ko mil jaye
Kya pata…


Kya hai yeh silsala
Janu naa
Main janu naa
O..o..


Dil.. sambhal ja zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu
Dil.. yahin ruk jaa zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu
Kuch bhi nahi


Jab darmiyan
Phir kyun hai dil
Tere hi khwaab bunta
Chaha ki de
Tujhko bhula
Par yeh bhi mumkin
Ho na sakaa.. a…a…aaaa….


Kya hai yeh maamla
Janu naa
Main janu naa..
Dil.. sambhal ja zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu


Dil.. yahin ruk jaa zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu
Dil.. sambhal ja zara
Phir mohabbat
Karne chala hai tu

Hindi Lyrics

जब जब तेरे पास मैं आया
इक सुकून मिला
जिसे मैं था भूलता आया वो वजूद मिला
जब आए मौसम ग़म के तुझे याद किया
हो.. जब सहमे तन्हांपन से तुझे याद किया
हम्म.. दिल, संभल जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू


दिल.. यहीं रुक जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू
ऐसा क्यूँ कर हुआ
जानू ना, मैं जानू ना
हो… दिल संभल जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू


दिल.. यहीं रुक जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू
जिस राह पे, है घर तेरा
अक्सर वहाँ से हाँ मैं हूँ गुज़रा
शायद यही, दिल में रहा
तू मुझको मिल जाए क्या पता


क्या है ये सिलसिला
जानू ना, मैं जानू ना
हो.. दिल संभल जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू
दिल.. यहीं रुक जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू
कुछ भी नहीं, जब दरमियाँ
फिर क्यूँ है दिल तेरे ही ख्वाब बुनता


चाहा की दे, तुझको भुला
पर ये भी मुमकिन हो ना सका..
क्या है ये मामला, जानू ना, मैं जानू ना
दिल संभल जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू


दिल.. यहीं रुक जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू
दिल संभल जा ज़रा
फिर मोहब्बत करने चला है तू

Leave a Reply