Khushiyan Aur Gham Lyrics | Mann 1999

0
289

Song Title: Khushiyan Aur Gham Lyrics
Movie: Mann
Singers: Udit Narayan, Anuradha Paudwal
Lyrics: Sameer
Music: Sanjeev Darshan
Music label: Ultra Hindi

English Lyrics

Khushiyaan Aur Ghum Sehte Hai
Phir Bhi Ye Chup Rehati Hai,
Abtak Kisi Ne Na Jaana,
Zindagi Kya Kehti Hai… (2)

Apni Khabhi To Khabhi Ajanebi,
Aasoon Khabhi To Khabhi Hai Hasin,

Darr Ya Khabhi To Khabhi Tishnegi Lageti Hai Ye To,

Khushiyaan Aur Ghum Sehte Hai
Phir Bhi Ye Chup Rehati Hai,
Abtak Kisi Ne Na Jaana,
Zindagi Kya Kehti Hai

Khamoshiyon Ki Dheemee Sada Hai,
Ye Zindagi To Rab Ki Duaa Hai,

Chud Ke Kisi Ne Isko Dekha Khabhi Na,
Ehsaas Ki Hai Khushbhoo Mehki Hawa Hai

Khushiyaan Aur Ghum Sehte Hai
Phir Bhi Ye Chup Rehati Hai,
Abtak Kisi Ne Na Jaana,
Zindegi Kya Kehti Hai

Ha Ha Ha Haa Mm Mm Mm Mmm

Mann Se Kahoon Tum,
Mann Ki Suno Tum,
Mann Meet Koi Mann Ka Suno Tum,
Kuch Bhi Kahegi Duniya,
Duniya Ki Chudo

Palko Mein Sajaake Jhilmil,
Sapane Bano Tum

Khushiyaan Aur Ghum Sehte Hai
Phir Bhi Ye Chup Rehati Hai,
Abtak Kisi Ne Na Jaana,
Zindegi Kya Kehti Hai

Apni Khabhi To Khabhi Ajanebi,

Aasoo.n Khabhi To Khabhi Hai Hasi,

Darr Ya Khabhi To Khabhi Tishnegi

Lageti Hai Ye To

Khushiyaan Aur Ghum Sehte Hai,
Phir Bhi Ye Chup Rehati Hai,
Abtak Kisi Ne Na Jaana,
Zindegi Kya Kehti Hai

Hindi Lyrics

[खुशियाँ और ग़म सहती हैं
फिर भी ये चुप रहती हैं
अबतक किसी ने ना जाना
ज़िन्दगी क्या कहती है]x २

अपनी कभी तो कभी अजनबी
आसूं कभी तो कभी है हंसी
डर या कभी तो कभी तिश्नगी
लगती है ये तो

खुशियाँ और ग़म सहती हैं
फिर भी ये चुप रहती हैं
अबतक किसी ने ना जाना
ज़िन्दगी क्या कहती है

खामोशियों की धीमी सदा है
ये ज़िन्दगी तो रब की दुआ है

छू के किसी ने इसको देखा कभी ना
एहसास की है खुशबू महकी हवा है
खुशियाँ और ग़म सहती हैं
फिर भी ये चुप रहती है

अबतक किसी ने ना जाना
ज़िन्दगी क्या कहती है
आहा आ हम्म हूं..
मन से कहो तुम, मन की सुनो तुम
मन मीत कोई, मन का चुनो तुम
कुछ भी कहेगी दुनिया, दुनिया की छोडो

पलकों में सजके झिलमिल
सपने बनाओ तुम
खुशियाँ और ग़म सहती हैं
फिर भी ये चुप रहती हैं
अबतक किसी ने ना जाना

ज़िन्दगी क्या कहती है
अपनी कभी तो कभी अजनबी
आसूं कभी तो कभी है हंसी
डर या कभी तो कभी तिश्नगी
लगती है ये तो


खुशियाँ और ग़म सहती है
खुशियाँ और ग़म सहती है
फिर भी ये चुप रहती है
फिर भी ये चुप रहती है

अबतक किसी ने ना जाना
अबतक किसी ने ना जाना
ज़िन्दगी क्या
ज़िन्दगी क्या कहती है

Leave a Reply