Jaam Woh Hai Hindi Lyrics – Sainik | Kumar Sanu 1993

0
358

Song Title: Jaam Woh Hai
Movie: Sainik
Singers: Kumar Sanu
Music: Nadeem-Shravan
Lyrics: Sameer
Year: 1993
Music label: Tips Music

English Lyrics

Jaam wo hai jo bhar ke
chhalakta hai, chhalakta hai
jaam wo hai jo bhar ke
chhalakta hai, chhalakta hai
pyar wo hai jo aankho se
jhalakta hai, jhalakta hai
jaam wo hai jo bhar ke
chhalakta hai, chhalakta hai


pyar wo hai jo aankho se
jhalakta hai, jhalakta hai
jaam wo hai jo bhar ke
chhalakta hai, chhalakta hai
laharo ko kabhi na chhupa paayega samandar
laharo ko kabhi na chhupa paayega samandar


roshni kabhi na chhupegi shama ke andar
roshni kabhi na chhupegi shama ke andar
chehra khaamosh aayine mein utar jaayega
rang khushbu ka hawao mein bikhar jaayega


ho bikhar jaayega
phool wo hai jo khil ke
mahakta hai, mahakta hai
phool wo hai jo khil ke
mahakta hai, mahakta hai
pyar wo hai jo aankho se
jhalakta hai, jhalakta hai


jaam wo hai jo bhar ke
chhalakta hai, chhalakta hai
pyar ki chaahat ki nayi roshni dikhaane
pyar ki chaahat ki nayi roshni dikhaane
aaya hu dilo se main nafratein mitaane
aaya hu dilo se main nafratein mitaane


saari duniya se to hum dosti nibhaayege
pyar ka geet saari umr gungunaayege
ho gungunaayege
saaj wo hai jo nagmo pe
khanakta hai, khanakta hai
saaj wo hai jo nagmo pe


khanakta hai, khanakta hai
pyar wo hai jo aankho se
jhalakta hai, jhalakta hai
jaam wo hai jo bhar ke
chhalakta hai, chhalakta hai


pyar wo hai jo aankho se
jhalakta hai, jhalakta hai
jaam wo hai jo bhar ke
chhalakta hai, chhalakta hai

Hindi Lyrics

जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है


जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है


लहरों को कभी ना छुपा पायेगा समंदर
लहरों को कभी ना छुपा पायेगा समंदर
रौशनी कभी ना छुपेगी शमा के अन्दर
रौशनी कभी ना छुपेगी शमा के अन्दर
चेहरा खामोश आईने में उतर जाएगा
रंग खुशबु का हवाओ में बिखर जाएगा


हो बिखर जाएगा
फूल वो है जो खिल के
महकता है, महकता है
फूल वो है जो खिल के
महकता है, महकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है


जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
प्यार की चाहत की नई रौशनी दिखने
प्यार की चाहत की नई रौशनी दिखने
आया हूँ दिलो से मैं नफरतें मिटाने
आया हूँ दिलो से मैं नफरतें मिटाने


सारी दुनिया से तों हम दोस्ती निभाएंगे
प्यार का गीत सारी उम्र गुनगुनायेंगे
हो गुनगुनायेंगे
साज वो है जो नगमो पे
खनकता है, खनकता है


साज वो है जो नगमो पे
खनकता है, खनकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है
जाम वो है जो भर के


छलकता है, छलकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है

Leave a Reply