Rehne Ko Ghar Nahi Lyrics – SADAK 1991

0
344

Song Title: Rehne Ko Ghar Nahi Lyrics
Movie: Sadak (1991)
Singers: Kumar Sanu, Debashish Dasgupta, Junaid Akhtar
Lyrics: Sameer
Music: Nadeem-Shravan
Music label: T-Series

English Lyrics

Rahane ko ghar nahi
Sone ko bistar nahi
Rahane ko ghar nahi
Sone ko bistar nahi


Apana kuda hai rakhavaala
Ab tak usi ne hai paala
Rahane ko ghar nahi
Sone ko bistar nahi
Rahane ko ghar nahi
Sone ko bistar nahi


Apana kuda hai rakhavaala
Ab tak usi ne hai paala
Apani to zindagi katati hai
Footapaath pe
Oonche oonche ye mahal
Apane hain kis kaam ke
Humko to maan baap ke
Jaisi lagati hai sadak
Koi bhi apana nahi


Rishte hain bas naam ke
Apane jo saath hai
Ye andheri raat hai
Apane jo saath hai
Ye andheri raat hai
Apana nahi hai ujaala
Ab tak usi ne hai paala
Hum jo mazadoor hain


Hum jo mazadoor hain
Har gam se door hain
Mehanat ki rotiyaan
Mil-jul ke khaate hain
Hum kabhi neend ki
Goliyaan lete nahi


Rakh ke patthar pe sar
Thak ke so jaate hain
Toofaan se jab ghire
Raahon mein jab gire
Toofaan se jab ghire
Raahon mein jab gire
Humko usi ne sambhaala
Ab tak usi ne hai paala


Yeh kaisa mulq hai ye kaisi reet hai
Yaad karate hain humein log
Kyon marane ke baad
Andhe baharon ki basti
Chaaron taraf andhere
Sab ke sab laachaar hain
Kaun sune kisaki fariyaad


Aise mein jeena hai
Humako to peena hai
Aise mein jeena hai
Humako to peena hai


Jeevan zahar ka hai pyaala
Ab tak usi ne hai paala
Rahane ko ghar nahi
Sone ko bistar nahi
Rahane ko ghar nahi
Sone ko bistar nahi


Apana kuda hai rakhavaala
Ab tak usi ne hai paala
Apana kuda hai rakhavaala
Ab tak usi ne hai paala.

Hindi Lyrics

रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं
रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं
अपना ख़ुदा है रखवाला
अब तक उसी ने है पाला


रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं
रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं
अपना ख़ुदा है रखवाला
अब तक उसी ने है पाला


अपनी तो ज़िन्दगी कटती है फूटपाथ पे
ऊंचे ऊंचे ये महल अपने हैं किस काम के
हमको तो मान बाप के जैसी लगाती है सड़क
कोई भी अपना नहीं रिश्तें हैं बस नाम के
अपने जो साथ है ये अंधेरी रात है
अपने जो साथ है ये अंधेरी रात है.


अपना नहीं है उजाला
अब तक उसी ने है पाला
ज़ू ज़ू ज़ू ज़ू..
हम तो मज़दूर हैं.. हम तो मज़दूर हैं
हर गम से दूर हैं


मेहनत की रोटिया मिल-जुल के खाते हैं
हम कभी नींद की गोलियां लेते नींद
रख के पत्थर पे सर थक के सो जाते हैं
तूफां से जब घिरे राहों में जब गिरे
तूफां से जब घिरे राहों में जब गिरे


हमको उसी ने संभाला
अब तक उसी ने है पाला
ये कैसा मुल्क है, ये कैसी रीत है
याद करते हैं हमें लोग क्यों मरने के बाद
अंधे-बहरों की बस्ती चारों तरफ अंधेर है


सब के सब लाचार हैं कौन सुने किसकी फ़रियाद
ऐसे मे जीना है हमको तो पीना है
ऐसे मे जीना है हमको तो पीना है
जीवन ज़हर का है प्याला
अब तक उसी ने है पाला


रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं
रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं
अपना ख़ुदा है रखवाला
अब तक उसी ने है पाला
अपना ख़ुदा है रखवाला
अब तक उसी ने है पाला

Leave a Reply