Nindiya Se Jaagi Bahar Lyrics – Lata, Hero 1983

0
70
NINDIYA-SE-JAAGI-BAHAR

Shopping Offers

Up to 40% OFF on Mobiles & Accessories
Up to 50% OFF on Consumer Electronics
Up to 80% OFF on Fashion
30%- 75% OFF on Home & Kitchen
Up to 70% OFF on Daily Essentials
Up to 60% OFF on TVs & Large Appliances
Up to 70% OFF on Books, Entertainment & more

Song Title: Nindiya Se Jaagi Bahar
Movie: Hero
Singer: Lata mangeshkar
Music: Laxmikant-Pyarelal
Lyrics: Anand Bankshi
Year: 1983

English Lyrics

(Nindiya se jaagi bahaar
Aisa mausam dekha pahli baar) -2
Koyal koohke koohke gaaye malhaar – 2
Nindiya se jaagi bahaar
Aisa mausam dekha pahli baar
Koyal koohke koohke gaaye malhaar
Nindiya se jaagi bahaar


Aisa mausam dekha pahli baar
Main hoon abhi kamsin kamsin – 2
Janoon na kuch is bin is bin
Raatein jawani ki -2


Bali umar ke din
Kab kya ho nahi ek baar
Aisa mausam dekha pahli baar
Koyal koohke koohke gaaye malhaar
Koohke koohke gaaye malhaar
Nindiya se jaagi bahaar

Aisa mausam dekha pahli baar
Kaisi yeh rut aayi, rut aayi
Kaisi yeh rut aayi
Sun ke main sharmayi sharmayi
Sun ke main sharmayi
Kanon main kah gayi kya -2


Jaane yeh purwai
Pahne phoolon kne kirnon ke haar
Aisa mausam dekha pahli baar
Koyal koohke koohke gaaye malhaar
Koohke koohke gaaye malhaar


Nindiya se jaagi bahaar
Aisa mausam dekha pahli baar
Koyal koohke koohke gaaye malhaar
Koohke koohke gaaye malhaar ….

Hindi Lyrics

निंदिया से जागी बहार
ऐसा मौसम देखा पहली बार
निंदिया से जागी बहार
ऐसा मौसम देखा पहली बार


कोयल कूह्के गाये मल्हार
कूह्के कूह्के गाये मल्हार
निंदिया से जागी बहार
ऐसा मौसम देखा पहली बार
कोयल कूह्के कूह्के गाये मल्हार
कूह्के कूह्के गाये मल्हार


निंदिया से जागी बहार
ऐसा मौसम देखा पहली बार
पा ने पा सा पा ने पा सा
मैं हूँ अभी कमसिन कमसिन
मैं हूँ अभी कमसिन कमसिन


जानू ना कुछ इस बिन इस बिन
रातें जवानी की
रातें जवानी की
बाली उमर के दिन
कब क्या हो नहीं एक बार
ऐसा मौसम देखा पहली बार


कोयल कूह्के कूह्के गाये मल्हार
कूह्के कूह्के गाये मल्हार
निंदिया से जागी बहार
ऐसा मौसम देखा पहली बार
कैसी ये रुत आई रुत आई
कैसी ये रुत आई
सुन के मैं शरमाई शरमाई


सुन के मैं शरमाई
कानों में कह गयी क्या
कानों में कह गयी क्या
जाने ये परवाई
पहने फूलों ने किरणों के हार
ऐसा मौसम देखा पहली बार


कोयल कूह्के कूह्के गाये मल्हार
कूह्के कूह्के गाये मल्हार
निंदिया से जागी बहार
ऐसा मौसम देखा पहली बार
कोयल कूह्के कूह्के गाये मल्हार
कूह्के कूह्के गाये मल्हार

Leave a Reply